×

वेस्टइंडीज के खिलाफ घरेलू सीरीज से टीम इंडिया में वापसी कर सकते हैं 'फिट' रोहित शर्मा

भारत और वेस्टइंडीज के बीच फरवरी में सीरीज में तीन वनडे और इतने ही टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले जाएंगे।

वनडे फॉर्मेट में टीम इंडिया के कप्तान बनते हैं चोट की वजह से पहले दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट और फिर पूरे दौरे से बाहर हुए रोहित शर्मा (Rohit Sharma) वेस्टइंडीज के भारत दौरे के साथ टीम इंडिया में वापसी कर सकते हैं।

रोहित को दक्षिण अफ्रीका के दौरे से पहले टेस्ट टीम का उपकप्तान बनाया गया था लेकिन टीम के रवाना होने से पहले अभ्यास सेशन के दौरान उनके बाएं हैमस्ट्रिंग में खिंचाव आया, जिसके बाद उन्हें टीम से बाहर होना पड़ा। समय पर फिटनेस हासिल नहीं कर पाने की वजह से वो दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ वनडे सीरीज से भी बाहर हो गए।

पीटीआई में छपी खबर में बीसीसीआई के एक सूत्र ने बताया, ‘‘राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी में रोहित का रिहैबिलिटेशन काफी अच्छा चल रहा है। उनके वेस्टइंडीज सीरीज के लिए ठीक हो जाने की उम्मीद है। अहमदाबाद में छह फरवरी को होने वाले पहले वनडे में अभी भी तीन सप्ताह का समय है।’’

वेस्टइंडीज के खिलाफ सीरीज में तीन वनडे और इतने ही टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले जाएंगे। वनडे मैच छह से 12 फरवरी तक खेले जाएंगे जबकि टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच 15 से 20 फरवरी तक आयोजित होंगे।

रोहित पिछले काफी समय से हैमस्ट्रिंग की समस्या से जूझ रहे है। इसी इंजरी की वजह से रोहित 2020-21 ऑस्ट्रेलिया दौरे पर सीमित ओवर की सीरीज के बाद शुरुआती दो टेस्ट मैच की टीम से बाहर हो गए थे।

बीसीसीआई की मौजूदा नीति के अनुसार, प्रत्येक खिलाड़ी को वापसी से पहले एनसीए (राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी) में  अनिवार्य रूप से  फिटनेस टेस्ट कराकर  ‘फिट टू प्ले (खेलने के लिए फिट)’ का प्रमाणपत्र हासिल करना होता है। इस प्रक्रिया के बाद ही चयन समिति को खिलाड़ी की उपलब्धता के बारे में सूचित किया जाता है।

विराट कोहली ने अब टेस्ट फॉर्मेट से भी कप्तानी छोड़ दी है ऐसे में रोहित के लिए अब चोट से बचकर रहना और अधिक जरूरी है। हालिया सालों में रोहित सभी फॉर्मेट में टीम के लिए सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वालों खिलाड़ियों में से एक रहे है। माना जाता है कि उन्हें टीम के सभी खिलाड़ियों का समर्थन भी हासिल है।

आईपीएल में मुंबई इंडियंस की कमान संभालने वाले रोहित की कप्तानी की शैली की तुलना महेन्द्र सिंह धोनी की शैली  से की जाती है। सूत्र ने कहा, ‘‘बीसीसीआई के द्वारा अगले युवा कप्तान का नाम को तय करने से पहले रोहित शर्मा कम से कम चार-पांच सालों तक टीम का नेतृत्व कर सकते है। आईसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के मौजूदा चक्र में टीम की कमान किसी  ऐसे अनुभवी हाथों में देने के बारे में सोचना चाहिए, जिसने खुद को ऐसी भूमिका में साबित किया है।

trending this week