© Getty Images
© Getty Images

आशीष नेहरा उर्फ ‘नेहरा जी’ आज अपने अंतरराष्ट्रीय करियर का आखिरी मैच न्यूजीलैंड के खिलाफ फिरोजशाह कोटला में खेले जाने वाले पहले टी20 के साथ खेलेंगे। नेहरा के फेयरवेल को लेकर हर कोई उत्साह में है। स्टेडियम में साइट स्क्रीन के ऊपर एक मैसेज लिखा गया है जिसमें लिखा है, ‘फेयरवेल आशीष नेहरा’। नेहरा के फेयरवेल को लेकर टीम इंडिया के खिलाड़ियों ने अपनी-अपनी शुभकमनाएं दी हैं। इसका वीडियो बीसीसीआई ने पोस्ट किया है। टीम इंडिया के तमाम खिलाड़ियों ने नेहरा को कैसे बधाई दीं। आइए जानते हैं।

रोहित शर्मा ने कहा, “मुझे उनका इंग्लैंड के खिलाफ वो 2003 वर्ल्ड कप वाला स्पैल याद है। उन्होंने 24 रन देकर 6 विकेट झटके थे। वह एक जादुई स्पैल था और वर्ल्ड कप में भारत के लिए सबसे बेस्ट स्पैल था। वह क्रिकेट के जेंटलमेन में से एक रहे हैं। मैं सौभाग्यशाली हूं कि उनके साथ खेला और उन यादों को शेयर किया। अब मैं उन्हें उनके भविष्य के लिए शुभकामनाएं देता हूं। वह हमेशा हमारे लिए अच्छे सलाहकार और दोस्त रहेंगे।”

शिखर धवन नेहरा के अच्छे दोस्तों में से एक हैं और अक्सर वह उनके साथ हंसी मजाक करते रहते हैं। धवन ने कहा, “नेहरा का सेंस ऑफ ह्यूमर (मजाक करने का तरीका) काफी अच्छा है, वह अच्छे जोक मारते हैं। उनके जोक सुने हैं मैंने। मैंने हमेशा उनके साथ रहना पसंद किया है। उनका क्रिकेट करियर खत्म होने के बाद भी हम साथ में अच्छा वक्त गुजारेंगे।”

टीम इंडिया के तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार ने कहा, “जब हम 38-39 साल के खिलाड़ी को अपना 100 प्रतिशत देते हुए देखते हैं, तो यह चीज मुझे खासा प्रेरित करती है।” अजिंक्य रहाणे ने कहा, “हम उनको इतने सालों से देखते हुए आ रहे हैं। जिस तरीके का कठिन परिश्रम उन्होंने किया है, चोटिल होने के बाद वापसी की है, ये चीज हमें प्रेरणा देती है। एक तेज गेंदबाज के तौर पर वह आखिरी समय में कैसा रुटीन अपनाते थे, वह बेहतरीन था।”

पहले टी20 में टीम इंडिया की प्लेइंग इलेवन तय, इन 11 खिलाड़ियों को मिलेगा मौका!
पहले टी20 में टीम इंडिया की प्लेइंग इलेवन तय, इन 11 खिलाड़ियों को मिलेगा मौका!

दिनेश कार्तिक ने बताया, “मैंने साल 2004 में नेटवेस्ट ट्रॉफी में इंग्लैंड के खिलाफ अपना डेब्यू मैच खेला था। मैंने उनकी गेंद पर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट का पहला कैच पकड़ा था। मुझे आज भी वो गेंद याद है, मार्कस ट्रेस्कोथिक ने खेलने की कोशिश की थी लेकिन गेंद बल्ले का बाहरी किनारा लेती हुई मेरे पास आई और मैंने कैच पकड़ लिया।”