Rohit Sharma: South African attack is most lethal of all
रोहित शर्मा का 2013 का दक्षिण अफ्रीका दौरा निराशाजनक रहा था © Getty Images

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 3 तीन मैचों की टेस्ट सीरीज शुरू होने से पहले भारतीय सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा ने टीम इंडिया की रणनीति को लेकर बातचीत की है। टाइम्स ऑफ इंडिया को दिए एक्क्लूसिव इंटरव्यू में रोहित ने दक्षिण अफ्रीकी गेंदबाजी अटैक में इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया से भी ज्यादा घातक बताया है। रोहित ने कहा, “ये दुनिया के सबसे बेहतरीन अटैकों में से एक है। देखिए, इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया भी घरेलू पिचों पर काफी वैरिएशन ला सकती है लेकिन ये दक्षिण अफ्रीकी अटैक बहुत अलग और सबसे ज्यादा घातक है।”

रोहित ने दक्षिण अफ्रीकी गेंदबाजों के बारे में बात करते हुए आगे कहा, “ये अटैक एकतरफा नहीं है। उनके पास वैरिएशन, अनुभव और कौशल है। कगीसो रबाडा लंबे कद के गेंदबाज हैं जो पिच पर तेज गेंद करा सकते हैं। मॉर्ने मॉर्केल भी उन्हीं के जैसे हैं। डेल स्टेन के पास अनुभव है जिसका इस्तेमाल वो नई और पुरानी गेंद के साथ कर सकते हैं। वर्नन फिलेंडर घरेलू स्थितियों में बहुत खतरनाक है। वह लगातार एक ही लेंथ की गेंदबाजी करता है, और आसानी से खेलने की छूट नहीं देता है। अगले एक साल में हमे सबसे चुनौतीपूर्ण अटैक का सामना करना है।”

टीम इंडिया को दक्षिण अफ्रीका दौरे पर एक अभ्यास मैच भी खेलना था, जिसके लिए बीसीसीआई ने बाद में इंकार कर दिया। कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री ने भी इस फैसले को सही ठहराया था। इस बारे में बात करते हुए रोहित ने कहा, “इंग्लैंड एशेज की तैयारी करने के लिए सीरीज से एक महीना पहले ऑस्ट्रेलिया पहुंच गई थी। हमारे पास उतना समय नहीं है लेकिन ये भी जरूरी नहीं कि इस तरह की योजना हर टीम के लिए काम करे। हम मौजूदा हालातों से खुश हैं।”

भारत बनाम दक्षिण अफ्रीका, पहला टेस्ट: सूखे के कारण न्यूलैंड्स की पिच पर होगा कम उछाल
भारत बनाम दक्षिण अफ्रीका, पहला टेस्ट: सूखे के कारण न्यूलैंड्स की पिच पर होगा कम उछाल

अपनी बल्लेबाजी के बारे में बात करते हुए रोहित ने वही कहा जो वो हमेशा कहते हैं, उन्होंने बताया, “मैं फील्ड के हिसाब से खेलने की कोशिश करता हूं। मैं कभी भी गेंद को जोर से मारने के बारे में नहीं सोचता, मैं कोशिश करता हूं कि गेंद को लाइन में ही खेलूं। मेरी बल्लेबाजी की मुख्य काम है फील्ड में गैप ढूंढना। इसमें कोई ज्यादा विज्ञान वाली बात तो है नहीं।”