रोहित शर्मा ने कोलकाता टेस्ट की दूसरी पारी में शानदार 82 रन बनाए थे © AFP
रोहित शर्मा ने कोलकाता टेस्ट की दूसरी पारी में शानदार 82 रन बनाए थे © AFP

कोलकाता टेस्ट और घरेलू मैदानों पर भारत के 250 टेस्ट से पहले कयास लगाए जा रहे थे कि कोलकाता में पिच बल्लेबाजी के अनुकूल होगी और मैच के आखिरी दो दिन स्पिनरों की मददगार होगी। लेकिन पिच ने उम्मीदों के विपरीत बर्ताव किया और मैच में तेज गेंदबाज छाए रहे। बल्लेबाजों के लिए पिच पर टिकना और रन बनाना मुश्किल रहा।

भारतीय गेंदबाजों ने न्यूजीलैंड की पहली पारी सस्ते में समेटते हुए पहली पारी में 112 रनों की बढ़त हासिल की। भुवनेश्वर कुमार ने इसमें अहम भूमिका निभाते हुए पारी में 5 कीवी बल्लेबाजों को आउट किया (भुवनेश्वर ने करियर में चौथी बार पांच विकेट लिए)। जब भारत की पारी शुरू हुई तो बल्लेबाजों के लिए एक-एक रन बनाना मुश्किल हो रहा था। कीवी तेज गेंदबाजों ने अपनी लाइन लेंथ से भारतीय बल्लेबाजों को काफी परेशान किया और उनके धैर्य की कड़ी परीक्षा ली। जिसके कारण भारत का ऊपरी क्रम लड़खड़ा गया। विराट कोहली के 45 और रोहित शर्मा के अर्धशतक की मदद से दूसरी पारी में भारत सम्मानजनक स्कोर खड़ा करने में कामयाब रहा और मैच में एक अच्छी बढ़त बनाई। ये भी पढ़ें: ‘एमएस धोनी: द अनटोल्ड स्टोरी’ में दिखाया गया युवराज की 358 रनों की पारी का सच

भारत की दूसरी पारी में सर्वाधिक स्कोर करने वाले बल्लेबाज रोहित शर्मा रहे जिन्होंने 132 गेंदों में 82 रन बनाए। रोहित शर्मा ने अपनी पारी में 9 चौके और 2 छक्के लगाए जिसकी बदौलत तीसरे दिन भारत न्यूजीलैंड पर 339 रनों की बढ़त बनाने में कामयाब रहा। दिन का खेल खत्म होने के बाद मुंबई के रोहित शर्मा ने मीडिया से कहा कि आपने पिछले दो दिनों के खेल को देखा होगा, ये कोलकाता की पिच पहले के मुकाबले अलग है। पिच पर असमान उछाल है। मैच के किसी भी क्षण बल्लेबाज आसानी से रन नहीं बना सकता। पिच पर हर गेंद को खेलते वक्त आपको ये विश्वास होना चाहिए कि आपना शत-प्रतिशत दे रहे हैं। रोहित ने आगे कहा हालात आसान नहीं हैं, जब गेंद पुरानी हो जाती है तो गेंदबाजों के लिए गेंदबाजी आसान नहीं रहती उस दौरान आपको गेंद सही जगह पर करनी होती है।

रोहित शर्मा के आलोचक हमेशा उनपर तलवार लेकर खड़े रहते हैं और रोहित पर ये आरोप लगाते हैं कि टेस्ट में रोहित की तकनीक उतनी मजबूत नहीं है। आलोचकों ने रोहित को किनारे पर लाकर खड़ा कर दिया कि वह कभी भी टीम से बाहर किए जा सकते हैं। जब रोहित शर्मा से पूछा गया कि क्या उनपर अच्छा खेलने का दबाव रहता है तो रोहित ने कहा कि मुझपर कोई दबाव नहीं रहता। ये सिर्फ मीडिया में खबरें रहती हैं कि मैं किसी दबाव में हूं, आपने मुझे मैदान में देखा होगा, क्या आपको मैं पहले या इस टेस्ट में दबाव में दिखा?। आपको बता दें कोलकाता टेस्ट की दूसरी पारी में रोहित शर्मा ने शानदार बल्लेबाजी की थी और अर्धशतक लगाया था।