Rohit was outstanding, Mayank brilliant and our fast bowlers do well; Says Virat Kohli
virat kohli

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने भारत के तेज गेंदबाजी आक्रमण की जमकर प्रशंसा की है जिन्होंने स्पिनरों के मुफीद धीमे विकेट पर भी शानदार प्रदर्शन दिखाया।

मोहम्मद शमी ने खतरनाक तेज गेंदबाजी स्पैल की बदौलत पांच विकेट अपने नाम किए जिससे भारत ने शुरुआती टेस्ट में दक्षिण अफ्रीका को 191 रन पर समेटकर 203 रन से जीत हासिल की। भारत ने इस तरह तीन मैचों की सीरीज में 1-0 की बढ़त ले ली।

यह पूछने पर कि भारतीय तेज गेंदबाज अब भारत की टेस्ट जीत में ज्यादा अहम भूमिका निभा रहे हैं तो कोहली ने कहा, ‘यह सिर्फ जज्बे की बात है। अगर तेज गेंदबाज सोचेंगे कि स्पिनरों को ही सारा काम करना होगा तो इससे टीम में उनके स्थान के साथ न्याय नहीं होगा।’

किस्मत भी बहादुरों का साथ देती है : रोहित शर्मा

कोहली ने मैच के बाद प्रेस कांफ्रेंस में कहा, ‘वे छोटे स्पैल के लिए कहते हैं ताकि वे अपना शत-प्रतिशत दे सकें। तभी आप देख रहे हो कि शमी, इशांत, जसप्रीत और उमेश अच्छा कर रहे हैं। यह सिर्फ जज्बा है कि आप कितनी भी मुश्किल परिस्थितियों में टीम के लिये अच्छा खेलना चाहते हो।’

पहली पारी में तेज गेंदबाजों में सिर्फ इशांत शर्मा ने ही एक विकेट झटका था। लेकिन शमी ने दूसरी पारी में विपक्षी टीम को हिला दिया और 35 रन देकर पांच विकेट चटकाकर कप्तान की प्रशंसा का पात्र बने।

कोहली ने कहा, ‘शमी दूसरी पारी में मुख्य गेंदबाज रहे। सभी खिलाड़ी अपनी प्रतिभा के हिसाब से खरे उतरे।’

रविचंद्रन अश्विन और रविंद्र जडेजा की स्पिन जोड़ी ने गेंद से शानदार प्रदर्शन किया। अश्विन ने पहली पारी में सात विकेट झटके जबकि जडेजा ने कुल छह (दो और चार) विकेट हासिल किये।

वाइजैग टेस्ट: 191 पर ढेर हुई दक्षिण अफ्रीका, 203 रन से जीता भारत

कोहली ने रोहित शर्मा की प्रशंसा के पुल बांधे जिन्होंने टेस्ट सलामी बल्लेबाज के तौर पर पदार्पण मैच में दोनों पारियों में शतक जड़े। उन्होंने मयंक अग्रवाल भी तारीफ की जिन्होंने अपना पहला टेस्ट शतक जमाया।

कोहली ने कहा, ‘मयंक और रोहित ने शानदार खेल दिखाया। पुजारा ने भी दूसरी पारी में अच्छा किया। मौसम के कारण और धीमी होती पिच पर उनका प्रदर्शन बेहतरीन रहा।’

दक्षिण अफ्रीका के कप्तान फाफ डु प्लेसिस ने भी अपनी टीम के प्रयास की प्रशंसा की और साथ ही स्वीकार किया कि शमी की दूसरी पारी में गेंदबाजी ने बड़ा अंतर पैदा किया।

उन्होंने कहा, ‘हमने कड़ी चुनौती दी लेकिन दूसरी पारी मुश्किल थी। इस तरह के मैच के बाद आप हमेशा बैठकर सोच सकते हो कि आप क्या कर सकते थे। पांचवें दिन की पिच पर चीजें तेजी से होती हैं लेकिन यह टेस्ट क्रिकेट की प्रकृति ही है।’