श्रीसंत ने 2013 में भुवनेश्वरी से शादी की थी।  Courtesy Sreesanth’s Twitter
श्रीसंत ने 2013 में भुवनेश्वरी से शादी की थी। Courtesy Sreesanth’s Twitter

भारतीय टीम के पूर्व तेज गेंदबाज एस श्रीसंत और उनकी पत्नी भुवनेश्नरी कुमारी दूसरी बार माता-पिता बनें हैं। बुधवार को उनके बेटे का जन्म हुआ। श्रीसंत ने ट्विटर के जरिए अपने फैन्स को यह खुशखबरी दी। श्रीसंत की एक बेटी और है जिसका नाम श्री सांविका है जिसका जन्म 2015 में हुआ था। श्रीसंत इस समय काफी खुश हैं और अपने फैन्स के साथ अपनी खुशी बांट रहे हैं। हालांकि उन्होंने अब तक बच्चे की तस्वीर अपलोड नहीं की है। श्रीसंत को फिक्सिंग के आरोपों के चलते आजीवन क्रिकेट से बैन कर दिया गया है। ये भी पढ़ें: प्रधानमंत्री को शादी का कार्ड देने संसद पहुंचे युवराज सिंह

फिक्सिंग के आरोप प्रत्यारोप के बीच श्रीसंत के लिए समय बेहद कठिन रहा था और अब लंबे समय के बाद उन्हें खुशी की एक और वजह मिली है। श्रीसंत 2007 से 2011 तक भारतीय टीम के स्थाई सदस्य थे। साथ ही 2007 में टी20 विश्व कप और 2011 में वनडे विश्व कप विजेता टीम में शामिल थे। वहीं आईपीएल के दौरान स्पॉट फिक्सिंग के आरोप में बीसीसीआई ने उन पर आजीवन बैन लगाया था। श्रीसंत को इस बीच जेल भी जाना पड़ा था। इन सब मुश्किलों में भुवनेश्नरी उनके साथ हमेशा रहीं और 2013 में दोनों ने शादी कर ली। आईपीएल श्रीसंत के करियर और निजी जीवन में सबसे खराब समय रहा है। आईपीएल के दौरान ही हरभजन सिंह और उनके बीच हाथापई हुई थी। श्रीसंत ने अपने करियर का सबसे बेहतरीन स्पेल डाला था 2006 में साउथ अफ्रीका के खिलाफ जोहान्सबर्ग में, जब उन्होंने 40 रन देकर पांच विकेट लिए थे। वहीं 2007 टी20 विश्व कप में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सेमी फाइनल में उन्होंने एडम गिलक्रिस्ट और मैथ्यू हेडन का विकेट लेकर भारत की जीत की नींव तैयार की थी। फाइनल मैच में भी जोगिंदर शर्मी की गेंद पर मिसबाह उल हक का लिया उनका कैच आज भी यादगार हैं। उसी कैच के बाद भारत ने पहला टी20 विश्व कप अपने नाम किया था। ये भी पढ़ें: डीआरएस कोई रॉकेट साइंस नहीं है: पार्थिव पटेल

श्रीसंत में अपने ट्वीट में लिखा कि मुझे आपको बताते हुए खुशी हो रही है कि आज सुबह हमारे घर एक बहुत ही प्यारे और खूबसूरत लड़के का जन्म हुआ है, मुझे बहुत ज्यादा खुशी हो रहा है। मां और बच्चा दोनों स्वस्थ हैं। श्रीसंत ने क्रिकेट से दूर होने के बाद राजनीति में भी हाथ आजमाया।