S Sreesanth needs to give enough reasons to back his claim, says Kapil Dev
शांताकुमारन श्रीसंत © PTI

केरल हाई कोर्ट के बीसीसीआई की ओर से लगाए आजीवन बैन को जारी रखने के फैसले के बाद पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज एस श्रीसंत ने बयान दिया था कि बोर्ड उनके साथ पक्षपात कर रहा है। अब श्रीसंत के इस बयान पर पूर्व भारतीय कप्तान कपिल देव ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। कपिल देव का कहना है कि श्रीसंत को बोर्ड पर लगाए इन आरोपों के लिए और कारण बताने चाहिए। बैंगलौर में आयोजित गोल्फ चैंपियनशिप के दौरान विश्व कप विजेता कप्तान ने कहा, “अगर उसे लगता है कि उसके साथ गलत हो रहा है कि उसे अपने आरोपों को सही साबित करने के लिए और कारण बताने होंगे।”

कोर्ट के फैसले पर भड़के श्रीसंत, कहा 'मेरे लिए अलग नियम हैं, असली दोषियों का क्या'
कोर्ट के फैसले पर भड़के श्रीसंत, कहा 'मेरे लिए अलग नियम हैं, असली दोषियों का क्या'

कपिल देव ने पीटीआई से बातचीत में आगे कहा, “हर कोई चाहता है कि वह भारत के लिए खेले लेकिन आखिर में केवल 11 खिलाड़ी ही टीम में खेल पाते हैं।” दरअसल केरल हाईकोर्ट का फैसला आने के बाद श्रीसंत ने सोशल मीडिया पर इसे सबसे खराब फैसला बताया था। साथ ही उन्होंने आईपीएल टीमों और लोढ़ा समिति की फाइल के मुद्दे को भी उठाया। उन्होंने कहा था कि, “मैंने केवल इतना कहा था कि इस केस में कुल 13 आरोपी थे तो फिर मेरे साथ इतना अलग व्यवहार क्यों हो रहा है। मैने यही पूछा था, मैने नहीं कहा कि उनके नाम सार्वजनिक कर दो।”

श्रीसंत ने पीटीआई को दिए बयान में कहा था कि, “मुझे इस मामले के बारे में किसी और शख्स से ज्यादा पता है क्योंकि मैं ही वो शख्स हूं जो सबसे खराब समय से गुजरा हूं।” श्रीसंत अब भी इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील कर सकते हैं।