Sachin Tendulkar, BCCI and other cricketers condoles demise of Madhav Apte
फोटो साभार- Twitter/Sachin Tendulkar

भारतीय क्रिकेट के दिग्गज सचिन तेंदुलकर ने पूर्व सलामी बल्लेबाज माधव आप्टे के निधन पर शोक व्यक्त किया। 86 साल के आप्टे का सोमवार 23 सितंबर को मुंबई में उनका निधन हो गया।

तेंदुलकर ने ट्वीट किया, “माधव आप्टे सर की ढेर सारी यादें हैं। जब मैं 14 साल का था तो उनके खिलाफ शिवाजी पार्क में खेलने का मौका मिला था। आज भी याद है जब उन्होंने और डुंगुरपुर सर ने मुझे, एक 15 साल के लड़के को सीसीआई के खेलने सका मौका दिया था। उन्होंने हमेशा मेरा समर्थन किया। भगवान उनकी आत्मा को शांति दे।”

तेंदुलकर के अलावा अजिंक्य रहाणे, यूसुफ पठान, वसीम जाफर, विनोद कांबली ने भी पूर्व बल्लेबाज ने निधन पर दुख जताया।बीसीसीआई और मुंबई क्रिकेट एसोसिएशन ने भी पूर्व क्रिकेटर के परिवार के प्रति संवेदनाएं व्यक्त की।

श्री आप्टे ने भारत के लिए सात टेस्ट खेले, जिनमें से पांच घर में वेस्टइंडीज के खिलाफ थे। अपने सात टेस्ट में, उन्होंने 49.27 की औसत से 542 रन बनाए। उन्होंने तीन अर्धशतक और एक शतक लगाया जो पोर्ट ऑफ स्पेन में वेस्ट इंडीज के खिलाफ आया जिसमें उन्होंने 163 * रन बनाए। ये उनका सर्वोच्च टेस्ट स्कोर था। वेस्टइंडीज के खिलाफ 1953 की सीरीज के बाद वो भारत के किसी मैच में नजर नहीं आए।

हालांकि उन्होंने मुंबई के लिए एक बल्लेबाज और कप्तान के रूप में प्रथम श्रेणी क्रिकेट में खेलना जारी रखा। उन्होंने 67 प्रथम श्रेणी के खेलों में 38.79 की औसत से 3,336 रन बनाए जिसमें छह शतक और सोलह अर्धशतक शामिल थे।

संन्यास के बाद, उन्होंने मुंबई में क्रिकेट क्लब ऑफ इंडिया के अध्यक्ष के पद पर काम किया। आप्टे ने 14 साल के सचिन तेंदुलकर को सीसीआई में लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। मैदान के बाहर वो अक्सर खेल के लिए अपने बिना शर्त प्यार और समर्थन के लिए जाना जाता था।