दिग्‍गज बल्‍लेबाज सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) का कहना है कि साउथम्‍पटन की तेज पिच पर भी भारतीय टीम रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin) और रवींद्र जडेजा (Ravindra Jadeja) दोनों के साथ मैदान पर उतर सकती है. सचिन ने ऑस्‍ट्रेलिया के पूर्व स्पिनर शेन वार्न (Shane Warne) और श्रीलंका के मुथैया मुरलीधरन (Muttiah Muralitharan) का हवाला देते हुए कहा कि दोनों भारतीय स्पिनर भी मुश्किल पिच पर असरदार साबित हो सकते हैं.

भारत और न्‍यूजीलैंड को 18 से 22 जून के बीच वर्ल्‍ड टेस्‍ट चैंपियनशिप का फाइनल खेलना है। दूसरे शब्‍दों में ये कहना गलत नहीं होगा कि ये टेस्‍ट क्रिकेट का वर्ल्‍ड कप है. भारत पहले टी20 विश्‍व कप की तर्ज पर ही पहली टेस्‍ट चैंपियनशिप भी अपने नाम करना चाहेगा.

न्‍यूज एजेंसी पीटीआई को दिए साक्षात्‍मकार में सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने कहा, “मेरे हिसाब से संभावना तीन तेज गेंदबाजों और दो स्पिनरों के खेलने की है क्योंकि दोनों (अश्विन और जडेजा) बल्लेबाजी कर सकते हैं. आखिर में टीम प्रबंधन विकेट (पिच) को देखकर यह फैसला करना होगा.”

तेंदुलकर ने कहा, “विकेट से मदद नहीं मिलने पर भी शेन वार्न और मुथैया मुरलीधरन सीधी गेंदों से भी बहुत सारे विकेट चटकाते थे, ऐसे में सीधी गेंद भी एक विकल्प है.”

तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने कहा कि सीधी गेंद से भी बल्लेबाल भ्रमित होते है क्योंकि उन्हें बल्लेबाज हमेशा स्पिन के लिए खेलने की कोशिश करते समय दुविधा में रहते हैं.

“अश्विन और जडेजा दोनों को इंग्लैंड के ठंडे मौसम और हवा की स्थिति का फायदा उठाना चाहिये. इंग्लैंड में स्पिनर हवा से भी मदद हासिल कर सकता है. अगर गेंद की चमक बरकरार रही तो वह दोनों तरफ घूम सकती है.”