मौजूदा क्रिकेट में दो बल्लेबाज ऐसे हैं जिनकी हमेशा ही एक दूसरे से तुलना की जाती है, वो खिलाड़ी हैं – भारतीय विराट कोहली (Virat Kohli) और ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज स्टीव स्मिथ (Steve Smith)। हालांकि पूर्व भारतीय दिग्गज सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) नहीं चाहते कि इन दो शीर्ष खिलाड़ियों की तुलना की जाय।

सचिन का कहना है कि इन दोनों बल्लेबाजों को खेलते देखना सुखद: अनुभव है लेकिन वो इनके बीच तुलना नहीं करना चाहते। बुशफायर क्रिकेट बैश के लिए ऑस्ट्रेलिया पहुंचे सचिन ने क्रिकेट डॉट कॉम डॉट एटू ने सचिन के हवाले से लिखा है, “मैं तुलना पसंद नहीं करता। लोग मेरे और कुछ खिलाड़ियों के बीच तुलना किया करते थे।”

तेंदुलकर ने कहा, “मेरा मानना है कि एक खिलाड़ी को खेलने के लिए छोड़ देना चाहिए। मेरी नजर में कोहली और स्मिथ शानदार बल्लेबाज हैं और दोनों को खेलते देखना सुखद: अनुभव है। ये दोनों क्रिकेट प्रेमियों का मनोरंजन कर रहे हैं और यही सबसे अहम बात है।”

‘पहले वनडे में बुमराह का डटकर सामना किया, आगे भी यही करने की कोशिश होगी’

युवा ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज मार्नस लाबुशाने के बारे में सचिन ने कहा कि टेस्ट में खासतौर पर अपनी बल्लेबाजी से मार्नस ने प्रभावित किया है। सचिन के मुताबिक मार्नस का फुटवर्क शानदार है और वह एक बेहतरीन खिलाड़ी हैं।

सचिन ने कहा, “मैंने मार्नस को इंग्लैंड और आस्ट्रेलिया के बीच लार्ड्स मैदान पर हुए दूसरे टेस्ट मैच में खेलते हुए देखा था। स्मिथ चोटिल हो गए थे तब वह उनकी जगह खेले थे। वह एक खास बल्लेबाज हैं। उनका फुटवर्क शानदार है। फुटवर्क फिजिकल चीज नहीं होती, इसका संबंध आपकी मानसिक स्थिति पर होता है। अगर आप सकारात्मक सोच के साथ नहीं खेल रहे तो आपको पैरों का मूवमेंट प्रभावित होता है।”