Sachin Tendulkar, Gautam Gambhir rejected four-day Test match format

सचिन तेंदुलकर और गौतम गंभीर जैसे भारत के पूर्व टेस्ट खिलाड़ियों ने आईसीसी के चार दिवसीय टेस्ट के प्रस्ताव को नकार दिया है। एक दिन पहले भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली ने भी इस विचार को नकार दिया था। इन दोनों का विचार है कि टेस्ट में पांचवें दिन स्पिनरों का बोलबाला रहता है और वो हालात का फायदा उठाकर अपनी टीम के लिए योगदान देते हैं लेकिन आईसीसी का ये आइडिया उसने उनका ये हक छीन लेगा।

सचिन ने मुम्बई मिरर से कहा, “स्पिनर पुरानी हो चुकी गेंद और टूटी हुई विकेट का फायदा उठाकर पांचवें दिन कमाल करते हैं। ये सब टेस्ट क्रिकेट का हिस्सा है। ऐसे में क्या ये सही होगा कि स्पिनरों का ये हक उनसे छीना जाए।”

सचिन ने कहा, “आज टी-20 मैच हो रहे हैं। वनडे हो रहे हैं और अब तो टी-10 भी होने लगे हैं। ऐसे में क्रिकेट के सबसे विशुद्ध फॉर्म के साथ छेड़छाड़ सही नहीं है। इसकी कोई जरूरत नहीं है।”

सचिन ने ये भी कहा कि टेस्ट से एक दिन कम करने से इस खेल को लोकप्रिय नहीं बनाया जा सकता। इसकी जगह आईसीसी को पिचों की क्वालिटी पर ध्यान देना चाहिए।

एक टेस्ट मैच पाकिस्तान और दूसरा ढाका में खेलने को तैयार नहीं है PCB

इससे पहले, गंभीर ने भारतीय कप्तान कोहली का समर्थन करते हुए कहा कि वो भी आईसीसी के इस प्रस्ताव के पक्ष में नहीं हैं। गंभीर ने कहा, “ये हास्यास्पद विचार है। टेस्ट से एक दिन कम करने से परिणाम नहीं आएंगे और फिर नई तरह की बातें शुरू हो जाएंगी।”

कोहली ने शनिवार को कहा था कि वो आईसीसी के चार दिन के टेस्ट मैच के पक्ष में नहीं हैं क्योंकि उनना मानना है कि ये खेल के सबसे शुद्ध फॉर्मेट के साथ न्याय नहीं होगा। कोहली के मुताबिक टेस्ट क्रिकेट को आगे ले जाने के लिए डे-नाइट टेस्ट बहुत है।

कोहली ने भारत और श्रीलंका के बीच गुवाहाटी खेले जाने वाले पहले टी-20 मैच से पहले कहा, “मेरे हिसाब से इसमें बदलाव नहीं होने चाहिए। जैसा मैंने कहा टेस्ट क्रिकेट को आगे ले जाने के लिए डे-नाइट टेस्ट लाया गया है, इससे उत्साह पैदा होता है, लेकिन इससे ज्यादा इससे छेड़छाड़ नहीं की जानी चाहिए। मुझे नहीं लगता कि ऐसा किया जाना चाहिए।”

न्यूजीलैंड दौरे से बाहर हो सकते हैं पृथ्वी शॉ, हाथ उठाने में भी हो रही है तकलीफ

उन्होंने कहा, “आप टेस्ट क्रिकेट में ज्यादा से ज्यादा डे-नाइट टेस्ट का बदलाव कर सकते हो। इसकी चलन शुरू हो चुकी है। किसी और बात पर ध्यान केंद्रित करने की जगह सिर्फ डे-नाइट टेस्ट पर ही फोकस किया जाए तो इस फॉर्मेट में काफी आकर्षण आ सकता है।”

आईसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप 2023 से चार दिन के टेस्ट मैच कराने को लेकर विचार कर रही है। ऑस्ट्रेलिया के टेस्ट कप्तान टिम पेन सहित कई खिलाड़ी इसकी आलोचना कर चुके हैं। अब कोहली भी इसमें शामिल हो गए हैं।

कोहली ने कहा कि अगर पांच दिन के टेस्ट को चार दिन का कर दिया जाता है तो वो दिन भी आ जाएगा जब तीन दिन के टेस्ट की बात की जाने लगेगी। कोहली से पहले ऑस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन, ग्लैन मैक्ग्रा, नाथन लॉयन, दक्षिण अफ्रीका के वार्नोन फिलेंडर भी इसकी खिलाफत कर चुके हैं।