पाकिस्तान के खिलाफ सेमीफाइनल मैच में धमाकेदार शतक जड़ टीम इंडिया को अंडर-19 विश्व कप में पहुंचाने वाले युवा सलामी बल्लेबाज यशस्वी जायसवाल (Yashasvi Jaiswal) ने बताया कि कैसे पूर्व भारतीय दिग्गजों सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) और राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) की दी सलाह ने उनकी मदद की।

टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में इस खिलाड़ी ने कहा, “वसीम जाफर और सचिन सर मेरे आदर्श हैं। वसीम सर मुझसे हमेशा पारी बनाने के लिए कहते हैं। चूंकि वो दक्षिण अफ्रीका में खेल चुके हैं, उन्होंने मुझे यहां कि तेज विकेट पर गति और उछाल से निपटने की सलाह दी।”

यशस्वी ने आगे कहा, “सचिन सर ने मुझे अहम सलाह दी, उन्होंने कहा ‘हर गेंदबाज आपको हमेशा इस बात का सुराग देता है कि वो क्या कराने जा रहा है, आपको केवल ध्यान लगाकर उसका पता लगाना है।”

अंडर-19 टीम के कोच रह चुके पूर्व क्रिकेटर द्रविड़ के बारे में यशस्वी ने कहा, “मैं उनसे हमेशा ढेर सारे सवाल पूछता रहता हूं। मैंने उनसे पूछा कि दबाव में कैसे बल्लेबाजी करूं। उन्होंने मुझसे सीधी सी बात कही ‘केवल गेंद पर सारा ध्यान लगाओ’।”

पाकिस्तान के खिलाफ सेमीफाइनल मैच में हो रही थी स्लेजिंग

यशस्वी ने इन भारतीय दिग्गजों की सलाहों को ध्यान में रखकर ही पाकिस्तान के खिलाफ दबाव भरे सेमीफाइनल मैच में शतक जड़ा। उस मैच के बारे में यशस्वी ने कहा, “शीर्षक्रम बल्लेबाज होने की वजह से मुझ पर मैच के पहले थोड़ा दबाव था। जब मैं और दिव्यांश (सक्सेना) बल्लेबाजी कर रहे थे, तो वो हमेशा स्लेज कर रहे थे। हालांकि हम बिना कोई विकेट खोए मैच जीतने के इरादे से आए थे और हम खुश हैं कि हम ऐसा कर सके और फाइनल में पहुंचे।”

टीम इंडिया पहली बार अंडर-19 विश्व कप में पहुंची बांग्लादेश के खिलाफ आज दोपहर डेढ़ बजे से फाइनल मैच खेलेगा।