Sandeep Patil advices Team India to Talk less, practice more and play cricket
Sanjay Bangar, Ravi Shastri, Virat Kohli © Getty Images

इंग्लैंड दौरे पर जाने से पहले टेस्ट रैंकिंग में नंबर एक पर मौजूद टीम इंडिया से सभी को काफी उम्मीदें थी। हालांकि भारतीय टीम उस पर खरी नहीं उतरी। पहले टेस्ट में करीबी हार के बाद लॉर्ड्स में भारतीय बल्लेबाजों ने पूरी तरह हथियार डाल दिए और टीम इंडिया को एक पारी, 159 रनों से शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा। पूर्व खिलाड़ी और चयनकर्ता संदीप पाटिल ने खिलाड़ियों को अपना व्यवहार बदलने और खेल को गंभीरता से लेने का सलाह दी है।

द क्विंट के एक कॉलम में पाटिल ने लिखा, “हमे इंग्लैंड दौरे पर जाने से पहली की गई कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री की प्रेस कॉन्फ्रेंस अच्छे से याद है। एक बयान जो खासकर याद आता है वो ये कि, ‘हमारे पास इंग्लैंड के हालात में ढलने के लिए काफी दिन हैं और हम वहां की कॉफी का आनंद लेंगे।’ पहले दो टेस्ट मैचों में टीम का प्रदर्शन देखकर लग रहा है कि टीम ने इस बयान को ज्यादा ही गंभीरता से लिया है और अब वो इंग्लैंड में केवल कॉफी का आनंद ही ले रहे हैं।”

पाटिल ने भी पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर की तरह लाल गेंद से अभ्यास की कमी को बल्लेबाजों के खराब प्रदर्शन का जिम्मेदार बताया। उन्होंने लिखा, “मैं आपको रवि शास्त्री का वो बयान याद दिलाना चाहूंगा जो उन्होंने दक्षिण अफ्रीका दौरे के बाद दिया था, उन्होंने कहा था कि वो बीसीसीआई की दौरा समिति से निवेदन करेंगे कि आगामी विदेशी दौरों पर खिलाड़ियों को वहां का स्थिति में ढलने के लिए पर्याप्त समय दिया जाय। इसे ध्यान में रखकर की इंग्लैंड दौरे का शेड्यूल तैयार किया गया था ताकि खिलाड़ियों को तैयारी के लिए अच्छा खासा समय मिले और टी20 सीरीज से पहले पूरा आराम भी मिले। हालांकि ये बात परेशान करने वाली है कि जब मांग के मुताबिक बीसीसीआई ने टीम को अभ्यास मैच खेलने का मौका दिया था, तब कोच रवि शास्त्री और कप्तान कोहली को ये लगा की टीम के लिए आराम करना सबसे अच्छा विकल्प था और वनडे और टेस्ट सीरीज के बीच 14 दिनों के लंबे गैप में सिर्फ तीन दिन का एक अभ्यास खेल खेला।”

पाटिल ने आगे कहा, “ये बात जाहिर है कि अभ्यास की कमी सफेद जर्सी में टीम इंडिया के खराब प्रदर्शन का सबसे बड़ा कारण हैं। आप बिना पढ़ें परीक्षा नहीं दे सकते और इंग्लैंड की ये परीक्षा वैसे ही मुश्किल होने वाली थी। अब कम समय बचा है। कागज पर टीम इंडिया अब भी मजबूत दिख रही है लेकिन हर मैच के बाद, हर हार के बाद किसी को समझ नहीं आ रहा है कि हमारी प्लेइंग इलेवन क्या होगी और सबसे अहम बात कि सलामी बल्लेबाजी कौन करेगा।” पाटिल ने भारतीय खिलाड़ियों को कम बयानबाजी और ज्यादा से ज्यादा अभ्यास करने की सलाह दी