संदीप पाटिल © PTI
संदीप पाटिल © PTI

भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले 8 नवंबर से पूरे देश में 500 और 1,000 रुपए की नकदी को बंद कर दिया और अब 500 और 2,000 के नए नोटों को जारी किया गया है। साथ ही एटीएम से अधिकतम 2,000 की रकम को निकालने को निर्धारित कर दिया है। लेकिन इसकी वजह से पूरे देश में लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इसी बीच उन लोगों को ज्यादा परेशानी हुई है जिनके घर में शादी है। इस परेशानी का हल निकालते हुए हाल ही में सरकार ने कहा था कि जिनके घर में विवाह हो रहा है वे बैंकों से 2.5 लाख रुपए निकाल पाएंगे। बशर्ते उन्हें कार्ड साक्ष्य के रूप में दिखाना होगा। लेकिन  ये घोषणा सिर्फ कागजों तक ही शेष है और लोगों को इसका लाभ अभी तक नहीं मिला है। इस परेशानी के कारण  आम जनता को तो परेशानी हो ही रही है साथ ही पूर्व क्रिकेटर संदीप पाटिल इसके लपेटे में आ गए हैं।

एक अंग्रेजी अखबार में छपी खबर के अनुसार पूर्व क्रिकेटर संदीप पाटिल ने एक हफ्ते पहले बैंक में इस रकम के लिए फार्म भरा था लेकिन बैंक ने नकद देने से इंकार कर दिया। पाटिल उन लोगों में शामिल हैं जिन्‍होंने नोटबंदी का समर्थन किया था लेकिन वह अब खुद इसके चलते परेशान हुए हैं। भारत में विमुद्रीकरण के बाद से लोगों को लगातार पैसों की किल्लत का सामना करना पड़ रहा है। उसका सबसे बड़ा कारण ज्यादातर एटीएम मशीनों का खराब होना है। साथ ही नई नोटों के लिए कई सारी मशीनों का री- कैलीब्रेशन नहीं हो पाया है। जिसके कारण एटीएम मशीनों में सिर्फ 100 के नोट भरे जा रहे हैं। फलस्वरूप, बैकों के बाहर भीड़ लग जाती है।