भारत के पूर्व बल्लेबाज संजय मांजरेकर (Sanjay Manjrekar) विराट कोहली (Virat Kohli) के टेस्ट कप्तानी छोड़ने के फैसले पर हैरानी जताई है। पूर्व क्रिकेटर का कहना है कि कोहली के इतने कम समय के सभी फॉर्मेट में कप्तानी की भूमिका से हटने का फैसला चौंकाने वाला है।

कोहली की अगुवाई वाली टीम पहला टेस्ट जीतने के बावजूद मेजबान दक्षिण अफ्रीका से तीन मैचों की सीरीज 1-2 से हार गई।

उन्होंने कहा, “ये फैसला बहुत कम समय में एक के बाद एक आया है – सीमित ओवर फॉर्मेट की कप्तानी और फिर आईपीएल कप्तानी भी छोड़ रहा है। ये भी अप्रत्याशित था, लेकिन ये दिलचस्प है कि महत्वपूर्ण पदों के तीनों इस्तीफे इतनी जल्दी आए हैं वो भी एक दूसरे के बाद।”

मांजरेकर ने कहा, “मुझे लगता है, किसी तरह, वो खुद को कप्तान के रूप में (प्लेइंग इलेवन में) स्थाई बनाना चाहता है। और जब उसे लगता है कि उसकी कप्तानी खतरे में है, तो वो पद छोड़ देता है।”

क्रिकेटर से ब्रॉडकास्टर बने मांजरेकर ने कहा, “विराट कोहली के आस-पास का परिदृश्य बदल रहा है, जिसमें उन्हें खुद को बनने और फलने-फूलने की अनुमति दी। जब वो अनिल कुंबले कोच थे तो वो असहज था लेकिन एक बार जब रवि शास्त्री और उनका सहयोगी स्टाफ आया तो उन्होंने सहज महसूस किया। नया कोच (राहुल द्रविड़) रवि शास्त्री नहीं है। उन्हें इस बात का अंदाजा हो गया होगा कि उन्हें किस तरह का समर्थन मिलने वाला है।”