सुप्रीम कोर्ट ने राज्य संघों को बीसीसीआई को पैसे चुकाने से मना किया। ©AFP
सुप्रीम कोर्ट ने राज्य संघों को बीसीसीआई को पैसे चुकाने से मना किया। ©AFP

बीसीसीआई बनाम लोढ़ा पैनल मैच ने अब एक और रोमांचक मोड़ लिया है। सु्प्रीम कोर्ट ने लोढ़ा समिती की सिफारिशों को लागू करने के फैसले की तारीख को 17 अक्टूबर तक बढ़ा दिया है। इसस पहले उच्चतम न्यायालय ने बोर्ड को एक दिन की मोहलत देकर लोढ़ा पैनल की सिफारिशों को लागू करने का आदेश दिया था। साथ ही ऐसा न करने पर सदस्यता रद्द करने का फैसला किया था। अब कोर्ट ने फैसले की तारीख को आगे बढ़ाकर बोर्ड को शायद एक और मौका दिया है। हालांकि कोर्ट ने पैनल की सिफारिशों को लेकर किसी भी प्रकार की लापरवाही को बर्दाश्त करने से सख्त इनकार किया है। यहां पढ़ें India Vs New Zealand Live Score – 3rd Test match

सुप्रीम कोर्ट ने बीसीसीआई के राज्य संघों को किसी भी तरह का फंड स्थानांनतरित करने पर रोक लगा दी है। बोर्ड को इसके लिए समिती की सभी सिफारिशों को मानना पड़ेगा। मुख्य न्यायधीश तीरथ सिंह ठाकुर की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि राज्य संघ भी बोर्ड से लिया हुआ पैसा तब तक नहीं लौटाएंगे, जब तक बोर्ड ये बात लिखित में नहीं दे देते कि वह पैनल की सिफारिशों को लागू करेंगे। बीसीसीआई अध्यक्ष ने इस मामले में आईसीसी का ध्यान खींचने की बहुत कोशिश की है। इस पर कोर्ट ने ठाकुर को एक व्यक्तिगत हलफनामा देने का आदेश दिया है, जिसमें वह ये स्पष्ट करें कि उन्होंने आईसीसी चेयरमैन डेविड रिचर्डसन को इस मामलें में हस्तक्षेप करने के लिए पत्र लिखा है या नहीं। पहले से ही ये चर्चा हो रही है कि आईसीसी के इस मामले में बीसीसीआई का साथ न देने से अनुराग ठाकुर काफी नाराज हैं। कपिल सिब्बल के निवेदन के कारण सुप्रीम कोर्ट ने 6 अक्टूबर तक पैनल की सिफारिशों को लागू करने के अपने फैसले को आगे जरूर बढ़ा दिया है पर कोर्ट के इस फैसले के बाद बोर्ड की परेशानी और बढ़ गई हैं। वहीं कोर्ट के फंड ट्रासंफर रोकने के फैसले से बीसीसीआई पर काफी प्रभाव पड़ेगा। ये भी पढ़ें अजिंक्य रहाणे ने टेस्ट क्रिकेट में 2,000 रन पूरे किये

17 को आने वाले कोर्ट के फैसले में ये संभावना है कि कोर्ट बोर्ड पर पैनल की सिफारिशों को लागू करने का दबाव बनाने के लिए एक समिती का गठन कर सकती है। फैसला जो भी इस वक्त बीसीसीआई के सामने कई परेशानियां हैं, आईपीएल और चैम्पियंस ट्रॉफी में से किसी एक को चुनना पहले ही बोर्ड का सिरदर्द बना है और अब पैसों को लेकर कोर्ट ने बोर्ड पर पाबंदी लगा दी है। बीसीसीआई और लोढ़ा पैनल के इस मैच में लोढ़ा समिती ने फिलहाल बढ़त बनाई हुई है, अब देखना होगा कि कोर्ट का फैसला आने के बाद क्या बीसीसीआई को कुछ राहत मिलेगी या नहीं।