पूर्व भारतीय कप्तान और दिग्गज ऑलराउंडर कपिल देव (Kapil Dev) इंग्लैंड के खिलाफ होने वाली आगामी टेस्ट सीरीज के लिए पहले से चुने जा चुके स्क्वाड में और खिलाड़ियों को जोड़ने के फैसले के खिलाफ हैं।

दरअसल इंग्लैंड दौरे पर भारतीय टेस्ट स्क्वाड का हिस्सा रहे युवा सलामी बल्लेबाज शुबमन गिल (Shubman Gill) चोटिल होने के बाद जल्द स्वदेश लौटेंगे। ऐसे में 4 अगस्त से शुरू होने वाली टेस्ट सीरीज के लिए भारतीय टीम को नए सलामी बल्लेबाज की जरूरत होगी।

खबर है कि बीसीसीआई श्रीलंका दौरे पर गए पृथ्वी शॉ (Prithvi Shaw) को सलामी बल्लेबाज की भूमिका निभाने के लिए इंग्लैंड रवाना करना चाहती है। पूर्व कप्तान को बोर्ड का ये फैसला पसंद नहीं आया चूंकि भारतीय टेस्ट स्क्वाड में पहले से ही मयंक अग्रवाल (Mayank Agarwal) और केएल राहुल (KL Rahul) जैसे खिलाड़ी मौजूद हैं जो कि सलामी बल्लेबाज की भूमिका निभा सकते हैं। वहीं शीर्षक्रम बल्लेबाज अभिमन्यू ईश्वरन भी रिजर्व खिलाड़ी के तौर पर स्क्वाड का हिस्सा हैं।

एबीपी न्यूज के एक कार्यक्रम के दौरान कपिल दव ने कहा, “मुझे नहीं लगता कि इसकी कोई आवश्यकता है। चयनकर्ताओं के लिए भी कुछ सम्मान होना चाहिए। उन्होंने एक टीम चुनी है और मुझे यकीन है कि ये उनकी (शास्त्री और कोहली) सलाह के बिना नहीं होता। मेरा मतलब है आपके पास केएल राहुल और मयंक अग्रवाल जैसे दो बड़े सलामी बल्लेबाज हैं। क्या आपको वाकई तीसरे विकल्प की जरूरत है? मुझे नहीं लगता कि ये सही है।”

पूर्व दिग्गज ने कहा, “मैं इस सिद्धांत से सहमत नहीं हूं। उन्होंने जो टीम चुनी है, उसमें पहले से ही सलामी बल्लेबाज हैं इसलिए मुझे लगता है कि उन्हें खेलना चाहिए। वर्ना, ये उन खिलाड़ियों के लिए अपमानजनक है जो पहले से ही टीम में हैं।”

कपिल ने आगे कहा कि टीम में एक और नाम जोड़ने से राहुल या अग्रवाल के आत्मविश्वास पर असर पड़ेगा। उन्होंने कहा, “मैं चाहता हूं कि कप्तान और मैनेजमेंट को अपनी बात रखनी चाहिए, लेकिन चयनकर्ताओं पर हावी होकर ऐसा नहीं कहना चाहिए कि ‘ये वो खिलाड़ी हैं जिनकी हमें जरूरत है’। ऐसे में हमें चयनकर्ताओं की जरूरत ही नहीं है। मुझे ये जानकर थोड़ा अजीब लग रहा है कि ऐसा कुछ हुआ है, क्योंकि अगर ऐसा हुआ है, तो ये चयनकर्ताओं और उनकी भूमिका को नीचा दिखाता है।”

पूर्व कप्तान ने आगे कहा, “केवल विराट और रवि ही ऐसा कह सकते हैं। मुझे लगता है कि ये गलत सेट-अप है। आपने जिन खिलाड़ियों का समर्थन किया है, आप उन्हें नीचा नहीं दिखा सकते। वो बड़े खिलाड़ी हैं और मैं नहीं चाहता कि ऐसा कुछ हो। किसी को भी अनावश्यक विवाद की जरूरत नहीं है।”