एमएसके प्रसाद की अध्यक्षता वाली चयन समिति ने पार्थिव पटेल को आठ साल बाद मौका दिया।  © Getty Images
एमएसके प्रसाद की अध्यक्षता वाली चयन समिति ने पार्थिव पटेल को आठ साल बाद मौका दिया। © Getty Images

एमएसके प्रसाद की अध्यक्षता वाली नई चयन समिति की नियुक्ति पर कई सवाल खड़े हुए थे लेकिन समिति ने अपने काम से सभी को जवाब दे दिए हैं। इस समिति ने पहले न्यूजीलैंड सीरीज और फिर इंग्लैंड के साथ सीरीज के लिए भारतीय टीम का चयन किया। दोनों ही सीरीज पर कई नए युवा खिलाड़ियों को मौका देने के साथ ही लंबे समय से टीम के बाहर चल रहे सीनियर खिलाड़ियों की वापसी भी कराई गई। जयंत यादव, करुण नायर, हार्दिक पंड्या, गौतम गंभीर और पार्थिव पटेल इस बात के सबूत हैं कि समिति युवा प्रतिभा के साथ साथ अनुभव को भी तवज्जो दे रही है। ये भी पढ़ें: मंगेतर प्रतिमा सिंह के साथ प्रधानमंत्री मोदी से मिले भारतीय तेज गेंदबाज ईशांत शर्मा

चयन समिति के अध्यक्ष एमएसके प्रसाद ने सीनियर खिलाड़ियों की वापसी की जिम्मदारी और युवा खिलाड़ियों के डेब्यू को लेकर बात करते हुए कहा, “जब मैने कुछ सीनियर और दिग्गज खिलाड़ियों से यह सुना कि उन्हे यह नहीं पता कि आखिर उनकी जगह कहां है। तो पहले मैने यह साफ किया कि जब तक वह रिटायर नहीं होते उनके पास मौका है। वहीं युवा खिलाड़ियों के पास हमेशा ही टीम में शामिल होने की पूरी संभावना रहती है।” प्रसाद ने यह भी बताया कि वह सीनियर और युवा खिलाड़ियों को टीम में जोड़े रखने के लिए क्या प्रक्रिया अपनाएंगे। उन्होंने कहा, “सीनियर खिलाड़ियों का मुद्दा बहुत ही संवेदनशील है। साथ ही मेरा मानना है कि अगर आप अपनी बात उन तक पहुंचा सके तो यह बहुत ही मददगार होगा। इसलिए हमने यह निश्चित किया है कि समिति युवराज सिंह, गौतम गंभीर और शिखर धवन जैसे खिलाड़ियों से लगातार बात करेगी। ताकि उन्हें यह बताया जा सके कि आखिर किन कारणों की वजह से उन्हें टीम से बाहर किया गया है जिससे वह अब तक अनजान हैं। हमने बोर्ड से अनुमित लेकर यह पॉलिसी तैयार की है। सेक्रेटरी इस फैसले से काफी खुश थे और अब हम रणजी खिलाड़ियों से भी बात करेंगे।” ये भी पढ़ें: आज के दिन महेंद्र सिंह धोनी ने खेला था अपना पहला टेस्ट मैच

रणजी क्रिकेट में उभरते हुए खिलाड़ी रिषभ पंत के टीम इंडिया का हिस्सा बनने की संभावना के बारें में उन्होंने कहा, “मैने रिषभ से बात की है और उसे भविष्या की पूरी योजना समझाई है जैसे वह अभी कहां हैं, किस तरफ उसे आगे बढ़ना है और वह किस मुकाम तक पहुंच सकता है। यही प्रक्रिया प्रियांक पांचाल या दीपक हुड्डा जैसे हर युवा खिलाड़ी के साथ अपनाई जाएगी।” उन्होंने यह भी कहा कि इस प्रक्रिया के बारें में जानकर क्रिकेटर काफी खुश हुए। वहीं प्रसाद ने यह बात भी साफ कर दी कि अगर किसी स्टार खिलाड़ी के जाने का समय आएगा तो उसे यह बताने में भी हिचकिचाएगी नहीं। इस खबर के बाद फैंस के लिए उनके पसंदीदा खिलाड़ी युवराज सिंह को एर बार फिर खेलते देखने की उम्मीद बढ़ गई है।