Sever cricket ties with countries supporting terrorism: BCCI writes letter to ICC

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने शुक्रवार को क्रिकेट खेलने वाले बाकी देशों से कहा है कि वह आंतक को बढ़ावा देने वाले देशों के खिलाफ सख्त कदम उठाएं। बीसीसीआई ने हालांकि इंग्लैंड में इसी साल होने वाले आईसीसी विश्व कप में पाकिस्तान के साथ मैच खेलने पर कोई अंतिम फैसला नहीं लिया है।

14 फरवरी को पुलवामा में हुए आंतकवादी हमले के बाद बीसीसीआई के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) ने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) को पत्र लिखकर कहा है कि वह आईसीसी टूर्नामेंट्स में भारतीय खिलाड़ियों की सुरक्षा पर ध्यान दे। जौहरी ने यह पत्र सर्वोच्च न्यायालय द्वारा नियुक्त की गई प्रशासकों की समिति (सीओए) के आदेश के बाद लिखा है।

पढ़ें:- सुपर ओवर में गुजरात से हारा राजस्‍थान, खलील पर चावला भारी

इस हमले में 40 से ज्यादा सीआरपीएफ जवान शहीद हो गए थे जिसके बाद पूरे देश में पाकिस्तान के विरोध का माहौल जोर पकड़ता जा रहा है।

जौहरी ने जो पत्र लिखा है उसकी प्रति आईएएनएस के पास है जिसमें लिखा है। इस पत्र में जौहरी ने पाकिस्तान का नाम लिए बिना लिखा है “इस पत्र में बीसीसीआई की वह सभी चिंताएं हैं जो हाल ही में भारतीय जमीन पर हुए हमले के बाद सामने आई हैं। इस हमले में 44 से ज्यादा भारतीय सुरक्षा सैनिकों की जान चली गई थी।”

पत्र में लिखा है, “इस आतंकी हमले के बाद बीसीसीआई को इंग्लैंड में होने वाले विश्व कप और भविष्य में होने वाले आईसीसी टूर्नामेंट्स में हिस्सा लेने वाले खिलाड़ियों, मैच अधिकारियों की सुरक्षा की चिंता है।”

उन्होंने कहा, “आईसीसी के अधिकतर सदस्यों (जिसमें इंग्लैंड भी शामिल है) ने इस हमले की निंदा की है और भारत का साथ दिया है। बीसीसीआई क्रिकेट खेलने वाले सभी देशों से आग्रह करता है कि वह आतंकवाद को पनाह देने वाले देशों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करें।”

 

सीईओ ने साथ ही आईसीसी से गुजारिश की है कि वह आईसीसी टूर्नामेंट्स में भारतीय खिलाड़ियों को उच्च स्तरीय सुरक्षा मुहैया कराए। उन्होंने लिखा, “बीसीसीआई साथ ही आईसीसी क्रिकेट विश्व कप-2019 में भारतीय प्रशंसकों की सुरक्षा को लेकर भी अपनी चिंता जाहिर करना चाहती है।”

उन्होंने लिखा, “बीसीसीआई को विश्वास है कि आईसीसी और इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) आगामी विश्व कप में भारतीय खिलाड़ियों और प्रशंसकों को उच्च स्तरीय सुरक्षा मुहैया कराएगा।”