shahid afridi recalls pitch damage controversy of 2005 and explained malik s role
shahid-shoaib

पाकिस्तान के पूर्व कप्तान शाहिद अफरीदी (Shahid Afridi) मैदान पर न सिर्फ अपने आक्रामक अंदाज के लिए जाने जाते थे बल्कि करियर के दौरान कई विवाद भी उनके साथ रहे. अफरीदी एक धमाकेदार बल्लेबाज थे जिन्होंने अपने वनडे करियर के सिर्फ दूसरे ही मैच में 37 गेंद पर शतक लगाकर इतिहास रच दिया था. अफरीदी का वनडे इंटरनैशनल (Fastest Century in ODI Record) में यह सबसे तेज शतक का रिकॉर्ड 17 साल तक कायम रहा. श्रीलंका के खिलाफ उन्होंने 1996 में यह रिकॉर्ड बनाया था. करियर के अगले चरण में अफरीदी बल्ले से ज्यादा गेंद से कमाल करने लग गए. वह टीम के अहम लेग स्पिनर के तौर पर खेलने लगे. वनडे इंटरनैशनल में अफरीदी के नाम 395 विकेट हैं और टी20 इंटरनैशनल में उन्होंने 98 विकेट लिए.

अफरीदी के करियर के विवादों की बात करें तो साल 2005 में उन्हें एक टेस्ट और दो वनडे इंटरनैशनल मैचों के लिए बैन कर दिया गया था. अफरीदी ने पिच को जानबूझकर खराब किया था. इसकी सजा के तौर पर ही पूर्व कप्तान पर यह बैन लगाया गया था. उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ फैसलाबाद में खेले जा रहे टेस्ट मैच के दौरान अपने जूतों से पिच को खराब किया था. इस शर्मनाक घटना के 17 साल बाद इस पूर्व ऑलराउंडर ने न सिर्फ उस लम्हे को याद किया बल्कि उससे जुड़ी पूरी कहानी भी बताई.

अफरीदी ने बताया कि उन्होंने गैस सिलेंडर में हुए धमाके से मची हलचल का फायदा उठाकर पिच को नुकसान पहुंचाया और साथ ही उस वक्त पाकिस्तानी खिलाड़ी शोएब मलिक के साथ हुई अपनी बातचीत का भी जिक्र किया.

अफरीदी ने कहा, ‘यह एक अच्छी सीरीज थी. यह टेस्ट मैच फैसलाबाद में हो रहा था. इस टेस्ट मैच में गेंद न तो टर्न हो रही थी और न ही सीम या स्विंग हो रही थी. यह मैच काफी बोरिंग हो रहा था. मैं अपनी पूरी ताकत लगा रहा था लेकिन कुछ नहीं हो रहा था. लेकिन तभी एक गैस सिलेंडर फटा और हर किसी का ध्यान उस ओर चला गया. मैंने मलिक से कहा, ‘मेरा दिल चाह रहा है कि मैं इधर पैच बना दूं. बॉल तो टर्न हो!”

अफरीदी ने समां टीवी के साथ बातचीत में आगे बताया, ‘शोएब मलिक ने कहा- कर दे. कोई नहीं देख रहा. तो मैंने कर दिया और फिर जो हुआ वह इतिहास है.’ इसके बाद अफरीदी हंसने लगे.

अफरीदी ने पाकिस्तान के लिए 27 टेस्ट, 398 वनडे और 99 टी20 इंटरनैशनल मैच खेले. मलिक हालांकि ऐक्टिव क्रिकेटर रहे लेकिन अभी वह पाकिस्तानी टीम से बाहर हैं. उन्होंने अपना पिछला अंतरराष्ट्रीय मुकाबला बांग्लादेश के खिलाफ नवंबर 2021 में खेला था.