Shakib Al Hasan was not forced to play Asia Cup 2018: Bcb chief Nazmul Hassan
Shakib al hasan (File Photo) © IANS

बांग्‍लादेश क्रिकेट बोर्ड के अध्‍यक्ष नजमुल हसन ने इस बात से इंकार किया है कि एशिया कप 2018 में खेलने के लिए ऑलराउंडर शाकिब अल हसन पर किसी प्रकार का दबाव बनाया गया था। शाकिब काे जनवरी में उंगली में चोट लगी थी, जो अब काफी बढ़ गई थी।

खबरों के मुताबिक वेस्‍टइंडीज दौरे से आने के बाद शाकिब अपनी उंगली की सर्जरी कराना चाहते थे, लेकिन बोर्ड ने उन्‍हें एशिया कप तक सर्जरी को टालने की सलाह दी थी। बांग्‍लादेश क्रिकेट बोर्ड के अध्‍यक्ष नजमुल हसन ने रिपोर्ट्स से बातचीत के दौरान कहा, “हमने कभी शाकिब पर एशिया कप खेलने के लिए दबाव नहीं डाला था। मैंने उन्‍हें कहा था कि वो चोट को लेकर ज्‍यादा खतरा नहीं लेते हुए डॉक्‍टर की सलाह लें।”

नजमुल हसन के मुताबिक शाकिब ने हमें बताया था कि फीजियो ने उन्‍हें कहा है कि एशिया कप में खेलने से उन्‍हें ज्‍यादा समस्‍या नहीं होगी। मैंने उसने पूछा था कि कहीं ये टूर्नामेंट खेलने से उनकी चोट बढ़ न जाए। इसपर शाकिब की तरफ से कहा गया था कि चिंता की कोई बात नहीं है।

एशिया कप 2018 के दौरान शाकिब की चोट पाकिस्‍तान के खिलाफ सुपर-4 के निर्णयक मैच से पहले काफी बढ़ गई थी। जिसके कारण वो पाकिस्‍तान और फिर भारत के खिलाफ फाइनल मुकाबले का हिस्‍सा नहीं बन पाए थे

एशिया कप बीच में ही छोड़कर वापस देश लौटने के बाद 27 सितंबर को शाकिब को उंगली की इमरजेंसी सर्जरी से गुजरना पड़ा था। उनकी उंगली में पस पड़ गई थी। उंगली से इन्फेक्शन कम होने के बाद उन्‍हें एक और सर्जरी से गुजरना होगा।

इस मामले में शाकिब का बयान आया था कि उनकी ये उगली अब कभी भी 100 प्रतिशत ठीक नहीं हो पाएगी। उन्‍हें मैदान पर लौटने में कम से कम तीन महीने का वक्‍त लगेगा।