पहली बार इंग्लैंड में खेले गए क्रिकेट के बिल्कुल नए फॉर्मेट ‘द हंड्रेड’ (The Hunderd League) का शनिवार को समापन हो गया. लॉर्ड्स में खेले गए फाइनल मैच में साउदर्न ब्रेव ने बर्मिंघम फोनिक्स को 32 रनों से हराकर इस टूर्नामेंट का पहला खिताब अपने नाम कर लिया है. लॉर्ड्स का मैदान इस मैच के लिए दर्शकों से खचाखच भरा था.

दर्शकों की इस भीड़ को देखकर ऑस्ट्रेलिया के महान स्पिनर और लंदन स्प्रिट के मुख्य कोच शेन वॉर्न (Shane Warne) और इंग्लैंड का पूर्व कप्तान केविन पीटरसन (Kevin Pietersen) को इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ECB) की इस नई लीग के बड़े स्तर पर आयोजन की उम्मीद है. दोनों ने कहा कि यह टूर्नामेंट अपने पहले ही आयोजन में शानदार रूप से सफल रहा है.

‘द हंड्रेड’ क्रिकेट का नया फॉर्मेट है, जिसमें प्रत्येक टीम को 100 गेंद खेलने को मिलती हैं. लंदन स्प्रिट के मुख्य कोच शेन वार्न (Shane Warne) ने स्काई स्पोर्ट्स से कहा, ‘मुझे लगता है कि यह उम्मीदों से आगे निकल गया. जिस तरह की क्रिकेट खेली गई, विभिन्न टीमों ने जिस तरह का प्रदर्शन किया वह बेजोड़ था.’ ओवल इनविन्सिबल्स ने महिलाओं का जबकि सदर्न ब्रेव ने पुरुष वर्ग का खिताब जीता.

वॉर्न ने कहा, ‘हम जहां भी गए वहां हमें स्टेडियम भरे हुए मिले. सोमवार, मंगलवार, बुधवार कोई भी दिन हो, बर्मिंघम, मैनचेस्टर, लंदन कोई भी जगह हो, स्टेडियम भरे हुए थे. दर्शकों को यह वास्तव में पसंद आ रहा है और यह शानदार है. यह प्रत्येक अगले वर्ष में बेहतर और बड़ा होता जाएगा.’

कोविड-19 महामारी के बीच इस टूर्नामेंट का आयोजन एक साल बाद किया गया. इंग्लैंड के पूर्व कप्तान पीटरसन टूर्नामेंट को शुरू में ही मिले अपार समर्थन से हैरान नहीं हैं. उन्होंने कहा, ‘ब्रिटेन में फ्रैंचाइजी क्रिकेट को देखकर अच्छा लग रहा है. हम एक बात जानते हैं कि ब्रिटेन के लोग खेलों का बहुत अच्छी तरह से समर्थन करते हैं.’

पीटरसन ने कहा, ‘यह मायने नहीं रखता कि खेल कौन सा है. कुछ साल पहले इस देश में टूर डि फ्रांस शुरू किया गया था और लोगों की उसे देखने के लिए सड़कों पर भीड़ एकत्रित हो गई थी. इसलिए क्रिकेट जैसे खेल को तो समर्थन मिलना ही है.’