Shane Warne believes Steven Smith, David Warner will destroy bowling attacks when they return
David Warner, Steve Smith (File Photo) @ IPL

ऑस्‍ट्रेलिया के पूर्व दिग्‍गज स्पिनर शेन वार्न का मानना है कि स्‍टीवन स्मिथ और डेविड वार्नर बॉल टैंपरिंग विवाद के बाद बेहद मजबूती से टीम में वापसी करेंगे। क्रिकेट की दुनिया में एक बार फिर लौटने के साथ ही वो हर गेंदबाजी अटैक को तहस नहस कर देंगे।

बॉल टैंपरिंग विवाद के बाद दोनों खिलाड़ियों पर लगा बैन इस महीने के अंत में खत्‍म हो रहा है। दोनों पाकिस्‍तान के खिलाफ इस महीने के अंत में होने वाले आखिरी दो वनडे मैचों में खेलने के योग्‍य हैं। हालांकि इसके बावजूद भी उन्‍हें मौका नहीं दिया गया है। दोनों बल्‍लेबाजों के पास आईपीएल 2019 में शानदार प्रदर्शन कर टीम में वापसी का अच्‍छा मौका है।

पढ़ें:- डेविड वार्नर ने जड़ा शतक, विश्‍व कप से पहले पेश की मजबूत दावेदारी

टेलीग्राफ स्‍पोर्ट्स से बातचीत के दौरान वार्न ने कहा, “मुझे लगता है कि दोनों बल्‍लेबाजों का टीम में कमबैक उनके पहले के प्रदर्शन से भी काफी अच्‍छा होगा। वार्नर ने पहले भी अपने करियर के दौरान सीमाएं लांघी हैं। जिसके बाद उन्‍होंने खुद में बदलावा किया और एक गंभीर खिलाड़ी के रूप में उभर का सामने आए। मुझे लगता है कि इस बार हम मैदान पर काफी शांत स्मिथ-वार्नर को देखने वाले हैं।”

वार्न का मानना है कि दोनों खिलाड़ी इस बार जुबानी जंग की जगह बल्‍ले से अच्‍छा प्रदर्शन कर अपने आलोचकों को जवाब देंगे। वार्न ने डेविड वार्नर का प्‍लेयर ऑफ द वर्ल्‍ड के रूप में समर्थन भी किया।

पढ़ें:- पाकिस्तान ने सेना की कैप पहनने के लिए आईसीसी से भारत के खिलाफ कार्रवाई की मांग की

शेन वार्न हाल ही में एमसीसी वर्ल्‍ड क्रिकेट कमेटी से भी जुड़े हैं। उन्‍होंने कमेटी के समक्ष टेस्‍ट क्रिकेट में नो बॉल पर फ्री हिट दिए जाने का प्रस्‍ताव रखा है ताकि खेल के सबसे लंबे प्रारूप को रोचक बनाया जा सके। उन्‍होंने इसपर पूछा, “हमारे पास टेस्‍ट क्रिकेट में नो बॉल पर फ्री हिट क्‍यों नहीं होनी चाहिए। इंग्‍लैंड ने हाल ही में वनडे क्रिकेट में तीन साल बाद नौ बॉल फेंकी। ऐसा इसलिए हुआ क्‍योंकि गेंदबाजों के मन में डर है कि अगर लाइन से पैर बाहर निकालकर गेंद फेंकी तो विरोधी टीम को फ्री हिट मिल जाएगी।”

वार्न ने कहा, “अगर इसी तरह की मानसिकता टेस्‍ट क्रिकेट में भी आती है तो ये अच्‍छा है। इससे खेल को फायदा होगा। अंपायर भी हर वक्‍त नो बॉल चैक नहीं कर पाते और गेंदबाजों को ये अहसास नहीं होता कि वो ओवरस्‍टेप कर रहे हैं।”