Shane warne: In our era, we  played more cricket and found time to improve
Shane Warne (File Photo) © Getty Images

ऑस्ट्रेलिया के दिग्गज लेग स्पिनर शेन वार्न ने कहा कि वह अपने जमाने में मौजूदा दौर के खिलाड़ियों से ज्यादा क्रिकेट खेलते थे लेकिन फिर भी खुद में सुधार करने में मौका मिल जाता था। मौजूदा दौर की क्रिकेट बिरादरी में यह आम धारणा है कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर तीनों प्रारूपों में खेलने वाले खिलाड़ियों को अपने खेल पर काम करने का मौका नहीं मिलता है।

पढ़ें:- वनडे में मेरा रिकॉर्ड बुरा नहीं, मैं इसके लिए उपयुक्त हूं: अश्विन

वार्न ने कहा भारत सहित कई देशों में खिलाड़ियों के कार्यभार पर ध्यान दिया जा रहा है। ‘‘हम मौजूदा दौर के क्रिकेटरों से ज्यादा खेलते थे। इसमें प्रथम श्रेणी के मैच भी शामिल है लेकिन क्रिकेट खेलने के दिनों की संख्या की बात करें तो हम ज्यादा खेलते थे। आज के दौर में मुश्किल स्थिति यह है कि खिलाड़ियों को बहुत ज्यादा यात्रा करनी होती है और अलग-अलग प्रारूपों से सामंजस्य बैठाना होता है, लेकिन दिनों की संख्या के हिसाब से हम ज्यादा क्रिकेट खेलते थे।’’

पढ़ें:- ‘टेस्‍ट गेंदबाज का ठप्पा लगने से वनडे में नहीं मिल रहा मौका’

वार्न ने इसके बाद ऑस्ट्रेलिया, विक्टोरिया और हैम्पशर के की टीमों से खेलने का उदाहरण दिया। सीनियर स्तर के क्रिकेट में 1862 विकेट चटकाने वाले इस गेंदबाज ने कहा, ‘‘ विक्टोरिया के लिए मैं शेफील्ड शिल्ड में खेलने के बाद टेस्ट मैच में खेलता था। इसके बार फिर से विक्टोरिया का प्रतिनिधित्व करता था। अब खिलाड़ियों को समय मिल जाता है।’’

वार्न यह मानने को तैयार नहीं थे कि खिलाड़ियों को अपने खेल पर काम करने का समय नहीं मिलता है। उन्होंने कहा, ‘‘ अगर आपको सुधार करना है तो व्यस्त रहने के बाद भी आप समय निकाल लेंगे। अगर आपको लगता है कि यह ठीक है तो आपको समय नहीं मिलेगा। यह एक दिन में नहीं होगा, इसमें समय लगता है। घंटो की मेहनत। इसमें कोई जादू नहीं है।’’