ऑस्ट्रेलिया के महान स्पिनर और राजस्थान टीम के ब्रांड दूत शेन वार्न ने इंडियन टी-20 लीग मैच में जोस बटलर को मांकड़िंग करने वाले आर अश्विन की कड़ी निंदा करते हुए उनकी हरकत को शर्मनाक और खेलभावना के विपरीत करार दिया ।

बटलर लीग के इतिहास में ‘मांकड़िग’ के शिकार होने वाले पहले बल्लेबाज बने। बटलर सोमवार को उस समय 43 गेंद में 69 रन बनाकर खेल रहे थे जब अश्विन ने उन्हें चेतावनी दिए बिना मांकड़िंग से आउट किया। उस समय राजस्‍थान जीत की ओर बढती नजर आ रही थी लेकिन बटलर के आउट होने के बाद मैच का रूख बदल गया और टीम 14 रन से हार गई ।

पढ़ें: स्‍कूप शॉट लगाना मैंने अपने डैड को देखकर सीखा : सरफराज खान

वार्न ने ट्विटर पर लिखा, ‘बतौर कप्तान और बतौर इंसान अश्विन ने निराश किया। सभी कप्तान लीग को खेलभावना से खेलने के करार पर हस्ताक्षर करते हैं। उस समय अश्विन गेंद डालने नहीं जा रहे थे तो वह डैड गेंद होती । अब बीसीसीआई को देखना है क्योंकि इससे आईपीएल की अच्छी छवि नहीं बन रही।’

उन्होंने लिखा, ‘अश्विन की हरकत शर्मनाक थी और मैं उम्मीद करता हूं कि बीसीसीआई इस तरह का बर्ताव बर्दाश्त नहीं करेगा।’

उन्होंने लिखा, ‘टीम के कप्तान होने के नाते आपको मिसाल बनना चाहिए कि टीम कैसे खेले। इस तरह की शर्मनाक और गिरी हुई हरकत करने की क्या जरूरत थी। अब माफी मांगने का समय भी निकल चुका है। आप इस हरकत के लिए याद रखे जाओगे।’

क्रिकेट के नियमों के संरक्षक मेरिलबोन क्रिकेट क्लब ने 2017 में दूसरे छोर पर खड़े बल्लेबाज को गेंदबाज द्वारा रन आउट करने के नियमों में काफी बदलाव किए। इसके तहत गेंद डालने से पहले गेंदबाज दूसरे छोर पर खड़े बल्लेबाज को रन आउट कर सकता है।

पढ़ें: अश्विन ने खतरनाक बटलर को किया ‘मांकडिंग’ आउट, हुआ विवाद

वार्न ने कहा, ‘पूर्व क्रिकेटर जो कह रहे हैं कि यह नियम के दायरे में था लेकिन उन्हें यह पसंद नहीं आया या वे ऐसा नहीं करते। तो मैं उनसे पूछना चाहता हूं कि वे ऐसा क्यो नहीं करते क्योंकि यह शर्मनाक और निंदनीय होने के साथ खेलभावना के विपरीत भी है।’

वॉर्न ने भारत और बैंगलुरू के कप्तान विराट कोहली को भी टैग करते हुए पूछा कहा यदि कोहली को इंग्लैंड के बेन स्टोक्स ऐसे आउट करते तो क्या लोग उसका समर्थन करते।’

उन्होंने कहा, ‘बेन स्टोक्स यदि कोहली के साथ ऐसे करते तो मुझे अचरज नहीं होता। लेकिन मुझे लगा कि अश्विन अलग हैं। किंग्स इलेवन पंजाब ने कई प्रशंसक खो दिए। खासकर युवा लड़के लड़कियां। उम्मीद है कि बीसीसीआई कुछ करेगा।’