पाकिस्‍तान में इन दिनों भारतीय संसद द्वारा पास किए गए सिटिजनशिप अमेंडमेंट एक्‍ट (CAA) को लेकर काफी चर्चा है. पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री से लेकर विदेशी मंत्री भारत के मुसलमानों के साथ हो रहे भेदभाव को लेकर ढिंढोरा पीट रहे हैं. इसी बीच पाकिस्‍तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोए अख्‍तर ने एक ऐसा खुलासा किया है जिससे पाकिस्‍तान में अल्‍पसंख्‍यकों की क्‍या स्थिति है इसकी पोल खुल गई है.

दानिश कनेरिया पाकिस्‍तान की टीम में खेलने वाले अनिल दलपत के बाद दूसरे खिलाड़ी हैं. शोए अख्‍तर ने एक टीवी इंटरव्‍यू के दौरान बताया कि उनके समय में कैसे दानिश कनेरिया के साथ टीम में सिफ इसलिए भेदभावपूर्ण रवैया अपनाया जाता था क्‍योंकि वो हिन्‍दू हैं.

शोएब अख्तर के साथ इस चैट शो में राशिद तलीफ और असीम कमाल थे. पहले राशिद लतीफ ने बताया कि युसूफ योहाना को हिन्‍दू होने की वजह से पाकिस्‍तान की टीम में काफी तंग किया गया, लेकिन वो कमाल का खिलाड़ी था. बाद में वो धर्म परिवर्तन कर मोहम्‍मद यूसुफ बन गया.

अख्‍तर ने इसके बाद दानिश कनेरिया का जिक्र करते हुए कहा कि उसे लेकर टीम में दो तीन खिलाड़ियों से मेरी लड़ाई हुई. मैंने कनेरिया का पक्ष लिया और कहा कि वो हिन्‍दू है तब भी हमारे साथ खेलेगा. इसी हिन्‍दू खिलाड़ी ने हमें आगे जीत दिलाई.