Shreyas Iyer: Indian team management has made it clear that I will bat at number 4
श्रेयस अय्यर, केएल राहुल (IANS)

भारतीय टीम मैनेजमेंट ने मध्यक्रम बल्लेबाज श्रेयस अय्यर से साफ कह दिया है कि सीमित ओवरों की क्रिकेट में वही नंबर चार बल्लेबाज की भूमिका निभाएंगे।

टीम इंडिया लंबे समय से नंबर चार पर प्रयोग कर रही है लेकिन ठोस नतीजे नहीं मिल पाए हैं। इंग्लैंड में खेले गए विश्व कप से पहले भी कई खिलाड़ियों को इस नंबर पर आजमाया गया लेकिन कोई भी अपनी जगह पक्की नहीं कर पाया। क्रिकेट महाकुंभ में विजय शंकर पर भरोसा दिखाया गया लेकिन ये प्रयोग भी असफल रहा।

अय्यर ने बांग्लादेश के खिलाफ तीसरे टी20 अंतरराष्ट्रीय में 33 गेंदों पर 62 रन की पारी खेलने के बाद कहा, ‘‘उन्होंने (टीम मैनेजमेंट) मुझे साफ कर दिया है कि ‘तुम नंबर चार पर बल्लेबाजी करोगे, इसलिए खुद पर भरोसा रखो। मेरे लिए नंबर चार पर मानदंड स्थापित करने के लिए पिछली कुछ सीरीज वास्तव में महत्वपूर्ण रही। इस नंबर के लिए हम सभी प्रतिस्पर्धा कर रहे हैं।’’

रोहित भाई ने मुझे अपनी ताकत से खेलने के लिए कहा: शिवम दुबे

टीम के दो प्रमुख बल्लेबाजों कप्तान विराट कोहली और उप कप्तान रोहित शर्मा के जल्दी आउट होने के बाद अय्यर ‘फिनिशर’ की भूमिका निभाने वाले खिलाड़ियों में भी शामिल होंगे।

विश्व कप टीम में जगह नहीं बना पाने की निराशा से उबर चुके इस 24 साल के बल्लेबाज ने कहा, ‘‘यहां तक कि अगर कोहली और रोहित आउट हो जाते हैं कि तो हमें कोई ऐसा बल्लेबाज चाहिए जो आखिर तक बल्लेबाजी कर सके। यही नंबर चार की भूमिका है। मैंने आज यही करने की कोशिश की और मेरे लिये ये अच्छा रहा। ’’

अय्यर से पूछा गया कि अगले साल होने वाले टी20 विश्व कप से पहले टीम उन जैसे कुछ खिलाड़ियों को आजमा रही है और ऐसे में उनकी ये पारी कितना महत्व रखती है? इस पर उन्होंने कहा, ‘‘हां, निश्चित तौर पर टीम में काफी प्रतिस्पर्धा है। मुझे निजी तौर पर लगता है कि मेरी खुद से प्रतिस्पर्धा है। मैं नहीं चाहता कि किसी के साथ मेरा आकलन किया जाए।’’

मैंने खिलाड़ियों को याद दिलाया कि हम देश के लिए खेल रहे हैं: रोहित शर्मा

अय्यर भले ही पिछले कुछ समय से नंबर चार पर बल्लेबाजी कर रहे हैं लेकिन वो टीम की जरूरत के हिसाब से किसी भी नंबर पर खेलने के लिये तैयार हैं। उन्होंने कहा, ‘‘मैं वास्तव में खुले दिमाग का हूं और किसी भी नंबर पर खेल सकता हूं। इसलिए मैं कड़ी परिस्थितियों में खुद पर भरोसा रखता हूं और आज की पारी दिखाती है कि मैं दबाव में भी खेल सकता हूं।’’

अय्यर ने कहा, ‘‘सहयोगी स्टाफ ने मुझे ही नहीं, बाकी सभी बल्लेबाजों को भी खुलकर खेलने की छूट दी है। जब आप बल्लेबाजी कर रहे हों तो आपको बहुत सकारात्मक होना चाहिए। अगर गेंद मेरे लिए अनुकूल हो तो मैं खुद पर नियंत्रण नहीं रखूंगा। मैं अपनी सूझबूझ से उसे खेलूंगा।’’

उन्होंने कहा, ‘‘जिस ओवर में मैंने तीन छक्के लगाए, उससे पलड़ा हमारी तरफ झुक गया, वर्ना हम 150 या 155 के स्कोर तक ही पहुंच पाते। इस स्कोर का बचाव करना वास्तव में मुश्किल होता क्योंकि ओस काफी पड़ रही थी और खेल बढ़ने के साथ पिच बल्लेबाजी के लिए बेहतर होती जा रही थी।’’