Shreyas Iyer is better option for number-4, Should be permanent in ODI team, feels Sunil Gavaskar
सुनील गावस्कर © CricketCountry

पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर का मानना है कि रिषभ पंत की तुलना में श्रेयस अय्यर वनडे में चौथे स्थान के लिए बेहतर विकल्प हैं और भारतीय मध्यक्रम में उन्हें स्थाई जगह मिलनी चाहिए।

एक साल बाद भारतीय टीम में जगह बनाने वाले अय्यर ने रविवार को पोर्ट आफ स्पेन में वेस्टइंडीज के खिलाफ दूसरे वनडे में 68 गेंद में 71 रन की पारी खेली और भारत की 59 रन की जीत में अहम भूमिका निभाई।

अय्यर भारतीय टीम में चौथे स्थान पर बल्लेबाजी करने के दावेदार हैं लेकिन टीम मैनेजमेंट फिलहाल वनडे में इस स्थान पर विकेटकीपर बल्लेबाज पंत को मौके दे रहा है।

GT20: वैंकूवर नाइट्स को सुपर ओवर में हराकर विनीपेग हॉक्स ने खिताब जीता

गावस्कर ने ‘सोनी टेन’ चैनल से कहा, ‘‘मेरे नजरिए से रिषभ पंत महेंद्र सिंह धोनी की तरह पांचवें या छठें स्थान पर फिनिशर के रूप में बेहतर है क्योंकि यहीं वो अपना स्वाभाविक खेल दिखा सकता है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘विराट कोहली, शिखर धवन और रोहित शर्मा अगर भारत को अच्छी शुरुआत दिलाते हैं और 40-45 ओवर तक बल्लेबाजी करते हैं तो पंत चौथे नंबर पर ठीक है लेकिन अगर 30-35 ओवर तक बल्लेबाजी करनी है तो मुझे लगता है कि श्रेयस अय्यर चौथे और पंत पांचवें स्थान पर होना चाहिए।’’

टी20 सीरीज की प्लेइंग इलेवन में जगह बनाने में नाकाम रहे अय्यर ने कप्तान विराट कोहली (120) के साथ 125 रन की साझेदारी भी की जिससे भारत ने सात विकेट पर 279 रन बनाए।

एक पारी से विराट ने तोड़ा सौरव गांगुली और जावेद मियांदाद का रिकॉर्ड

अय्यर की सराहना करते हुए गावस्कर ने कहा, ‘‘उसने मौके का फायदा उठाया। वो पांचवें नंबर पर उतरा। उसके पास काफी ओवर थे और कप्तान विराट कोहली उसके साथ खेल रहा था। इससे बेहतर कुछ नहीं हो सकता क्योंकि कप्तान आपके ऊपर से दबाव कम करता है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘क्रिकेट में सीखने की सर्वश्रेष्ठ जगह गेंदबाजी छोर है। विराट कोहली जब बल्लेबाजी कर रहा था तो श्रेयस अय्यर यही कर रहा था।’’

दिल्ली कैपिटल्स के कप्तान अय्यर इंडियन प्रीमियर लीग में अच्छी फार्म में थे लेकिन उन्हें विश्व कप टीम में जगह नहीं मिली। गावस्कर का हालांकि मानना है कि इस युवा को अब एकदिवसीय क्रिकेट में अधिक मौके मिलने चाहिए।

विराट कोहली को इस शतक की जरूरत थी: भुवनेश्वर कुमार

गावस्कर ने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि अगर इससे उसे भारतीय मध्यक्रम में अधिक स्थाई जगह बनाने में मदद नहीं मिलेगी तो पता नहीं कि किससे मिलेगी। इससे पहले खेले पांच मैचों में उसने दो अर्धशतक जड़े और 88 रन का सर्वाधिक स्कोर बनाया। उसने कुछ भी ऐसा गलत नहीं किया कि उसे विश्व कप टीम में जगह नहीं मिले लेकिन ये अतीत की बात है।’’

गावस्कर ने कहा, ‘‘अब उसने वापसी की है और पहले ही मौके में 71 रन बनाए। इसलिए मुझे लगता है कि उसे अधिक मौके मिलने चाहिए।’’