न्यूजीलैंड के खिलाफ 25 नवंबर से शुरू होने वाले पहले टेस्ट मैच में शुभमन गिल (Shubman Gill) मध्य क्रम में बल्लेबाजी करते नजर आ सकते हैं। टीम मैनेजमेंट विराट कोहली (Virat Kohli), रोहित शर्मा (Rohit Sharma) जैसे बड़े खिलाड़ियों की अनुपस्थिति में गिल की आक्रामक शैली को परखना चाहती है।

ऑस्ट्रेलिया में गिल को टेस्ट डेब्यू का मौका देने वाले पूर्व राष्ट्रीय चयनकर्ता जतिन परांजपे (Jatin Paranjpe) ने भी इसका समर्थन किया। उनका मानना है कि चेतेश्वर पुजारा, अजिंक्य रहाणे और हनुमा विहारी की बल्लेबाजी की शैली लगभग एक जैसी है।

परांजपे ने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘‘मैं हमेशा मानता हूं कि टीम चयन में एकरूपता से मदद नहीं मिलती है। मुझे वास्तव में लगता है कि शुभमन को मध्यक्रम के बल्लेबाज के रूप में खेलने से टीम को मदद मिलेगी। यह अतिरिक्त विकल्प देने में हमेशा मदद करेगा।’’

शुभमन कानपुर में न्यूजीलैंड के खिलाफ पहले टेस्ट में मध्यक्रम में बल्लेबाजी करेंगे, जहां विराट कोहली की गैरमौजूदगी में अजिंक्य रहाणे टीम की अगुवाई करेंगे।

शानदार फॉर्म में चल रहे केएल राहुल (KL Rahul) पारी का आगाज करेंगे जहां मयंक अग्रवाल उनके जोड़ीदार की भूमिका निभा सकते है। चेतन शर्मा की अगुवाई वाली नई चयन समिति और मौजूदा टीम मैनेजमेंट को लगता है कि उन्हें कोहली के अलावा मध्य क्रम में कम से कम एक खिलाड़ी की जरूरत है, जो अपने आक्रमण से विपक्षी खेमे को परेशान कर सके।

परांजपे ने कहा, ‘‘केएल राहुल ने मध्य क्रम में बल्लेबाजी की थी और अपने करियर की शुरुआत में कुछ सफलता हासिल की थी। शुभमन इसे दोहरा सकते हैं। युवा बल्लेबाज को टीम के जरूरत के हिसाब से अपनी भूमिका को बदलने में ज्यादा परेशानी नहीं होती है।’’

इस दो टेस्ट मैचों की सीरीज के लिए रोहित शर्मा के नहीं होने से टीम मैनेजमेंट के लिए ये एक शानदार मौका है कि वो मध्य क्रम के बल्लेबाज के रूप में गिल के कौशल को परख सके। कोहली मुंबई टेस्ट जबकि रोहित दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए टीम में वापस आएंगे।

गिल अगर मध्यक्रम में सफल रहते है तो कोहली और रोहित की वापसी के बाद इससे पुजारा और रहाणे पर भी अच्छा प्रदर्शन करने का दबाव रहेगा। चयनकर्ताओं ने श्रेयस अय्यर को मध्यक्रम के स्पेशलिस्ट बल्लेबाज के रूप में शामिल किया है, लेकिन मुंबई के इस खिलाड़ी को टेस्ट पदार्पण के लिए इंतजार करना पड़ सकता है।

परांजपे को लगता है आने वाले समय में उनके लिए मौका होगा। उन्होंने कहा, ‘‘देखिए देर-सबेर, चेतेश्वर और अज्जू (रहाणे) नहीं खेलेंगे। इसलिए, विहारी, शुभमन और श्रेयस के बीच  मध्यक्रम के स्थानों के लिए कड़ा मुकाबला होगा।’’