Sourav Ganguly: Can’t test players on the basis of IPL
सौरव गांगुली © Getty Images

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली का कहना है कि इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में किस खिलाड़ी को कितना पैसा मिला इस आधार पर उसे नहीं परखा जा सकता। गांगुली का कहना है कि आईपीएल ‘मांग और आपूर्ति’ पर आधारित है। क्रिकेट ईयर बुक की 20वीं सालगिरह पर गांगुली से जब रिद्धिमान साहा को सनराइजर्स हैदराबाद द्वारा पांच करोड़ रुपये और दिनेश कार्तिक को 7.4 करोड़ रुपये में कोलकाता नाइट राइडर्स द्वारा खरीदने के बारे में पूछा गया तो गांगुली ने कहा, “आप आईपीएल में मिली कीमत के आधार पर खिलाड़ी को नहीं परख सकते।”

पूर्व कप्तान ने कहा, “हाशिम अमला को किसी ने नहीं खरीदा। उनके नाम 54 शतक हैं। शान किशन को 6.2 करोड़ रुपये मिले वो भी सिर्फ रणजी ट्रॉफी में खेलने के कारण। इसलिए आईपीएल नीलामी खिलाड़ी को परखने का पैमाना नहीं है। आईपीएल एक अलग प्रारूप है आपको इसे अलग तरह से देखना होता है। आईपीएल मांग और आपूर्ति के नियम पर चलता है। जयदेव उनादकट 2018 की नीलामी में सबसे महंगे भारतीय खिलाड़ी रहे हैं।” उनादकट को आईपीएल नीलामी में राजस्थान रॉयल्स ने 11.5 करोड़ की रकम में खरीदा है।

वनडे सीरीज में टीम इंडिया के जीतने की 50 प्रतिशत संभावना

डरबन वनडे: टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करेगी दक्षिण अफ्रीका
डरबन वनडे: टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करेगी दक्षिण अफ्रीका

भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच गुरुवार से शुरू होने वाली छह वनडे मैचों की सीरीज पर गांगुली ने कहा कि इस सीरीज को जीतने की दोनों टीमों की बराबर संभावनाएं हैं। उन्होंने साथ ही कहा कि अगर भारत को सफल होना है तो भारतीय कप्तान विराट कोहली को रन बनाने होंगे। उन्होंने कहा, “मैं मैचों से पहले कुछ नहीं कह सकता। जोहान्सबर्ग में हुए टेस्ट मैच के बाद यह 50-50 का मामला है। दक्षिण अफ्रीकी परिस्थति में खेलना आसान नहीं होगा। भारत के लिए अच्छी बात यह है कि एबी डी विलियर्स शुरुआती तीन मैचों में नहीं खेलेंगे। वह दक्षिण अफ्रीका में बड़ा नाम हैं। विराट को भारत के खिलाफ रन बनाने होंगे।”

वांडरर्स जैसे पिच अपने करियर में कभी नहीं देखी

दोनों देशों के बीच हुए तीसरे टेस्ट मैच की वांडर्स की पिच को आईसीसी ने खराब बताया है। गांगुली ने कहा कि उन्होंने अपने करियर में ऐसी पिच दक्षिण अफ्रीका में कभी नहीं देखी। उन्होंने कहा, “दक्षिण अफ्रीका में आपको इस तरह की विकेट नहीं मिलती हैं। मैंने वहां पांच-छह टूर किए हैं। मुझे लगता है कि यह महज इत्तेफाक था। भविष्य में ऐसा नहीं होगा।”