Sourav Ganguly: Cricket is a game of captains, coach should take back seat
Sourav Ganguly (File Photo) © IANS

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने क्रिकेट में कप्‍तान और कोच की भूमिका को बेहद अच्‍छे ढंग से समझाया। उन्‍होंने सोमवार को पुणे में एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि फुटबाल के उलट क्रिकेट ‘कप्तान’ का खेल है और कोच को पर्दे के पीछे से काम करना चाहिए।

सौरव गांगुली को भारतीय क्रिकेट के सबसे सफलतम कप्‍तानों में से एक माना जाता है। उनका इशारा टीम इंडिया के कोच रवि शास्‍त्री की तरफ था। उन्‍होंने कहा, “कोच का सबसे जरूरी गुण मानव प्रबंधन का होना चाहिए। गांगुली यहां के सिम्बायोसिस इंटरनेशनल (डीम्ड यूनिवर्सिटी) में अपनी पुस्तक – ‘ए सेंचुरी इज नॉट एनफ’ के लॉन्च के लिए पहुंचे थे। वरिष्ठ खेल लेखक गौतम भट्टाचार्य इस किताब के सह लेखक हैं।

इस मौके पर गांगुली ने भट्टाचार्य के साथ एक पैनल चर्चा में भी भाग लिया। भारत के लिए 113 टेस्ट मैच खेलने वाले गांगुली ने कोच के बारे में पूछे गए सवाल पर कहा कि कोच को ‘‘मानव प्रबंधन’’ में एक्‍सपर्ट होना चाहिए लेकिन ‘‘बहुत कम कोच में ऐसी काबिलियत है’’।

सौरव गांगुली ने 311 वनडे में 22 शतक की मदद से 11,363 रन बनाए। इसी तरह उन्‍होंने अपने टेस्‍ट करियर में 113 मैच खेले जिसमें 16 शतक और 35 अर्धशतक की मदद से 7,212 रन बनाए।