टीम इंडिया के पूर्व कप्तान और मौजूदा बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) एंजियोप्लास्टी के बाद बेहतर महसूस कर रहे हैं और उन्हें बुधवार (6 जनवरी) को अस्पताल से छुट्टी मिल सकती है. गांगुली को शनिवार को ‘माइल्ड’ (हल्का) दिल का दौरा पड़ने के बाद वुडलेंड्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था. आज 9 सदस्यीय सीनियर डॉक्टरों ने गांगुली की सेहत पर चर्चा की और इस बात पर सहमति बनी उनकी हालत स्थिर है और इसलिए उनकी जो एंजियोप्लास्टी होनी है उसे कुछ दिन के लिए टाला जा सकता है.

वुडलेंड्स अस्पताल की एमडी एवं सीईओ रूपाली बसु ने बताया कि गांगुली की हालत स्थिर दिख रही है. इसलिए डॉक्टरों ने उनकी एंजियोप्लास्टी कुछ दिन टालने पर सहमति जताई है. अब उन्हें 6 जनवरी को छुट्टी मिल सकती है. 48 वर्षीय गांगुली की तीनों धमनियों में ब्लॉकेज पाया गया था, जिसे ‘ट्रिपल वेसल डिसीज’ के नाम से जाना जाता है.

रूपाली बसु ने जानकारी दी कि देश के जानेमाने हार्ट एक्सपर्ट डॉ. देवी शेट्टी और डॉ. आरके पांडा भी ऑनलाइन तरीके से बैठक में शामिल हुए. इसके अलावा अमेरिका के भी एक अन्य हार्ट स्पेशलिस्ट से फोन पर इस संबंध में चर्चा की गई.

उन्होंने बताया, ‘मेडिकल बोर्ड में यह आम सहमति बनी कि गांगुली की सेहत स्थिर है, सीने में दर्द नहीं है. ऐसे में एंजियोप्लास्टी को फिलहाल के लिए टालना सुरक्षित विकल्प होगा.’ इस बैठक में गांगुली के परिजन भी मौजूद थे, जिन्हें रोग संबंधी प्रक्रिया और आगे के इलाज की योजना के बारे में बताया गया. रूपाली बसु ने आगे बताया, ‘एंजियोप्लास्टी तो आने वाले कुछ दिन या हफ्तों में करनी ही होगी.

दिल का दौरा पड़ने के बाद गांगुली के ह्रदय की एक प्रमुख धमनी में स्टेंट डाला गया था. इस बीच केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर गांगुली से मुलाकात करने पहुंचे. उन्होंने उम्मीद जताई कि बीसीसीआई अध्यक्ष जल्द ही सामान्य जीवन में लौटेंगे. ठाकुर ने कहा, ‘दादा तो देश के हीरो हैं. उन्होंने क्रिकेट में कई उतार-चढ़ाव देखे हैं और अपने विरोधियों को अनेक बार परास्त किया है. इस बार भी वह ऐसा करेंगे.