Sourav Ganguly instills confidence, Rahul Dravid gives more chances: Irfan Pathan
इरफान पठान © Getty Images

शनिवार को क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से संन्यास लेने वाले भारतीय टीम के तेज गेंदबाज इरफान पठान ने कहा है कि उनके लिए इंटरनेशनल क्रिकेट का सफर शानदार रहा। इरफान ने ये भी कहा कि वो आज जो कुछ भी हैं, उसका श्रेय क्रिकेट को देना चाहते हैं।

संन्यास से बाद पठान ने सौरव गांगुली और राहुल द्रविड़ जैसे अपने पूर्व कप्तानों का शुक्रिया अदा किया। इरफान ने कहा कि गांगुली ने जहां उनके अंदर भरोसा जगाया वहीं द्रविड़ ने उन्हें अधिक से अधिक मौके दिए।

अपने दो पूर्व कप्तानों-गांगुली और द्रविड़ की देखरेख में सबसे अधिक इंटरनेशनल क्रिकेट खेलने वाले इरफान इन दोनों को अलग तरीके से याद करते हैं। इरफान ने कहा, “इन दोनों के बीच तुलना अच्छा नहीं होगा। हर कोई जानता है कि जब गांगुली भारतीय टीम के कप्तान बने थे, तब हालात काफी कठिन थे। उन्होंने जिस तरह टीम को मैनेज किया वो शानदार है।”

रिटायरमेंट के बाद इरफान पठान ने चयनकर्ताओं पर उठाए सवाल

उन्होंने आगे कहा, “गांगुली ने मुझे खुद पर भरोसा करना सिखाया और जहां तक द्रविड़ की बात है तो वो कई मामलो में शानदार कप्तान थे। उन्होंने सीनियर्स और जूनियर्स को शानदार तरीके से मैनेज किया। युवाओं को वो अधिक मौका देते थे और मेरे साथ भी यही हुअ। उनकी कप्तानी में मुझे टॉप में बैटिंग का मौका मिला और फिर नई गेंद से गेंदबाजी करने का भी मौका मिला।”

इरफान भारत की कई अहम जीतों का हिस्सा रहे, जिसमें 2007 टी-20 विश्व कप शामिल है। वो टेस्ट में भारत की तरफ से हैट्रिक लेने वाले दूसरे गेंदबाज हैं। उन्होंने 2006 में कराची टेस्ट में पहले ही ओवर में हैट्रिक ली थी।

न्यूजीलैंड दौरे से बाहर हो सकते हैं पृथ्वी शॉ, हाथ उठाने में भी हो रही है तकलीफ

अपने क्रिकेट करियर के सबसे महान पलों के बारे में बात करते हुए इरफान ने कहा, “इस तरह के कई पल हैं लेकिन टी20 विश्व कप जीतना और फाइनल में मैन ऑफ द मैच बनना मेरे लिए सबसे खास है। इसके अलावा दो ऐसे पल हैं, जो मेरे दिल के करीब हैं।”