बीसीसीआई अध्‍यक्ष सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) बीते सीजन में दिल्‍ली कैपिटल्‍स (Delhi Capitals) के मेंटर भी थे. ऐसे में श्रेयस अय्यर (Shreyas Iyer)  द्वारा गांगुली से मदद मिलने की बात कही गई तो बवाल हो गया. दादा ने इसपर सफाई देते हुए कहा कि मैंने लगभग 500 मैच खेले है जो मुझे किसी भी खिलाड़ी से बात करने और मार्गदर्शन करने का अधिकार देता है, अब चाहे वो श्रेयस अय्यर हो या विराट कोहली.

श्रेयस अय्यर ने एक साक्षात्कार में टीम के मुख्य कोच रिकी पोंटिंग और गांगुली (2019 में टीम के मेंटोर) के योगदान के बारे में बताया था जिसने उन्हें सफल खिलाड़ी और कप्तान के तौर पर निखरने में मदद की. गांगुली के आलोचकों ने हालांकि आरोप लगाया कि बीसीसीआई के अध्यक्ष होते हुए वह एक फ्रेंचाइजी के कप्तान की मदद कर रहे हैं.

गांगुली ने आरोपों को खारिज करते हुए कहा, ‘‘ मैंने पिछले साल उनकी (अय्यर) मदद की थी. मैं बोर्ड अध्यक्ष हो सकता हूं, लेकिन यह मत भूलो कि मैंने भारत के लिए लगभग 500 मैच (424 मैच) खेले हैं, इसलिए मैं एक युवा खिलाड़ी से बात कर सकता हूं और उसकी मदद कर सकता हूं, चाहे वह श्रेयस अय्यर हों या विराट कोहली. अगर वे मदद चाहते हैं, तो मैं कर सकता हूं.’’

अय्यर ने हालांकि बाद में ट्वीट कर सफाई पेश करते हुए कहा, ‘‘एक युवा कप्तान के रूप में पिछले सत्र में एक क्रिकेटर और कप्तान के रूप में अपनी यात्रा का हिस्सा बनने के लिए मैं रिकी और दादा का शुक्रगुजार हूं. एक कप्तान के रूप में मेरी व्यक्तिगत वृद्धि में उन्होंने जो भूमिका निभाई है मैं उसके प्रति कृतज्ञता जता रहा था.’’