भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली का बंगाल क्रिकेट संघ (सीएबी) के अध्यक्ष पद के लिए चुना जाना तय है लेकिन वह इस पद पर अगले साल जुलाई तक ही रह पाएंगे।

पढ़ें: भारतीय क्रिकेट टीम के खिलाड़ियों का दैनिक भत्ता हुआ डबल

शनिवार को नामांकन दाखिल करने की समय- सीमा समाप्त हो गई और गांगुली के पांच सदस्यीय पैनल के खिलाफ कोई चुनौती देने के लिए खड़ा नहीं हुआ।

सीएबी बीसीसीआई के प्रशासकों की समिति (सीओए) के निर्देश के मुताबिक 28 सितंबर को अपनी 85वीं वार्षिक आम बैठक (एजीएम) के आयोजन के साथ चुनाव कराएगा।

सीएबी के अध्यक्ष के तौर पर यह गांगुली का दूसरा कार्यकाल होगा। वह 2015 में जगमोहन डालमिया के निधन के बाद कैब के अध्यक्ष बने थे जबकि 2014 में वह संयुक्त सचिव नियुक्त हुए थे। पदाधिकारी के तौर पर उनका छह साल का कार्यकाल जुलाई 2020 में खत्म हो जाएगा। इसके बाद उनका अनिवार्य कूलिंग ऑफ पीरियड (प्रतीक्षा अवधि) शुरू हो जाएगी।

पढ़ें: SCA के अध्यक्ष चुने गए जयदेव शाह, हिमांशु शाह बने सचिव

कुछ दिन पहले प्रशासकों की समिति (सीओए) ने अपने चुनाव निर्देशों में कहा था कि दो कार्यकाल के बीच बाहर रहने के लिए तय अवधि (कूलिंग ऑफ पीरियड) के लिए कार्यकारिणी के सदस्य के रूप में बिताए गये कार्यकाल को भी शामिल किया जाएगा।

सीएबी समिति:

अध्यक्ष : सौरव गांगुली, उपाध्यक्ष : नरेश ओझा, सचिव : अभिषेक डालमिया, संयुक्त सचिव : देवव्रत दास, कोषाध्यक्ष : देबाशीष गांगुली।