टेस्ट क्रिकेट को बचाने के लिए इनदिनों आईसीसी जमकर मेहनत कर रही है. इसी के तहत उसने डे-नाइट टेस्ट का आयोजन भी कराना शुरू कर दिया है ताकि अधिक से अधिक दर्शकों को स्टेडियम तक लाया जा सके.

विराट कोहली-रोहित शर्मा और पेस तिकड़ी ने ट्रेनिंग से किया किनारा, ये है वजह

हाल में भारतीय टीम ने घरेलू मैदान पर ले दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट सीररीज खेली थी जहां मैदान में दर्शकों की काफी कमी देखी गई.

भारत में पहले डे-नाइट टेस्ट के आयोजन में अहम भूमिका निभाने वाले बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली का कहना है कि खेल के पारंपरिक प्रारूप में दिलचस्पी बढ़ाने के लिए ‘कायाकल्प की आवश्यकता है.’

‘टेस्ट क्रिकेट को कायाकल्प की जरूरत’

कोलकाता के ईडन गार्डंस में शुक्रवार से शुरू होने वाले भारत के डे-नाइट टेस्ट के पहले तीन दिनों के टिकट बिक चुके हैं. गांगुली ने कहा, ‘आगे बढ़ने का यही तरीका है, टेस्ट क्रिकेट को कायाकल्प की जरूरत है.’

पूर्व भारतीय कप्तान ने कहा, ‘यह दुनिया भर में हो रहा है. कहीं से इसे शुरू करना ही था. भारत क्रिकेट के मामले में सबसे बड़ा देश है. मुझे लगता है कि यह बदलाव जरूरी है.’

बंगाल क्रिकेट संघ (सीएबी) के अध्यक्ष के रूप में गांगुली ने भारत-पाकिस्तान टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच के 2016 में धर्मशाला से स्थानांतरित होने के बाद कम समय में सफलतापूर्वक आयोजन किया था. उन्होंने हालांकि कहा कि डे-नाइट टेस्ट का आयोजन अधिक चुनौतीपूर्ण है.

टीम इंडिया के पहले डे-नाइट टेस्ट के शुभंकर होंगे ‘पिंकू और टिंकू’, BCCI अध्यक्ष सौरव गांगुली ने किया अनावरण

भारतीय कप्तान ने कहा, ‘हमारे पास दर्शकों को मैदान में लाने की चुनौती है. दुनिया के किसी भी कोने में भारत और पाकिस्तान के बीच खेले जाने वाले मैच का स्टेडियम खचाखच भर जाएगा. आप जैसे ही घोषणा करेंगे दर्शक पहुंच जाएंगे.’

‘पहले तीन दिन के 65,000 टिकट बिकने से हूं संतुष्ट’

उन्होंने कहा, ‘यह (दिन रात्रि टेस्ट) अधिक चुनौतीपूर्ण है. मैं इस बात को लेकर संतुष्ट हूं की पहले तीन दिन के 65,000 टिकट बिक गए हैं.’ भारतीय टीम दो मैचों की सीरीज में 1-0 से आगे है. इंदौर में खेला गया पहला टेस्ट मैच भारत ने तीन दिन के अंदर जीत लिया था. बांग्लादेश के खिलाफ भारतीय टीम क्लीन स्वीप के इरादे से कोलकाता में उतरेगी.