Sourav Ganguly’s first course of action as BCCI president will be to fix first class cricketer’s financial status
सौरव गांगुली (IANS)

बीसीसीआई के अगले अध्यक्ष सौरव गांगुली ने कहा कि उनके लिए ये कुछ अच्छा करने का सुनहरा मौका है क्योंकि वो ऐसे समय में बोर्ड की कमान संभालने जा रहे हैं जब उसकी छवि काफी खराब हुई है। गांगुली ने कहा कि उनकी प्राथमिकता प्रथम श्रेणी क्रिकेटरों की देखभाल होगी। गांगुली का इरादा भारतीय क्रिकेट के सभी पक्षों से मिलने का और वे सारे काम करने का है जो पिछले 33 महीने में प्रशासकों की समिति नहीं कर सकी।

उन्होंने कहा , ‘‘पहले मैं सभी से बात करूंगा और फिर फैसला लूंगा। मेरी प्राथमिकता प्रथम श्रेणी क्रिकेटरों की देखभाल करना होगा। मैं तीन साल से सीओए से भी यही कहता आया हूं लेकिन उन्होंने नहीं सुनी। सबसे पहले मैं प्रथम श्रेणी क्रिकेटरों की आर्थिक स्थिति दुरूस्त करूंगा।’’

गांगुली ने अध्यक्ष पद की होड़ में बृजेश पटेल को पछाड़ दिया है और अब इस पद के लिए अकेले उम्मीदवार हैं।
उन्होंने कहा, ‘‘आपको दोपहर तीन बजे तक इंतजार करना होगा। निश्चित तौर पर ये बहुत अच्छा अहसास है क्योंकि मैंने देश के लिए खेला है और कप्तान रहा हूं। मैं ऐसे समय में कमान संभालने जा रहा हूं जब पिछले तीन साल से बोर्ड की स्थिति बहुत अच्छी नहीं है। इसकी छवि बहुत खराब हुई है। मेरे लिए ये कुछ अच्छा करने का सुनहरा मौका है।’’

सुरक्षा इंतजामों से परेशान हुए श्रीलंकाई खिलाड़ी; टेस्ट सीरीज के लिए पाक दौरा अनिश्चित

‘कूलिंग आफ’ अवधि के कारण उन्हें जुलाई में पद छोड़ना होगा। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 18000 से अधिक रन बना चुके पूर्व कप्तान ने कहा कि निर्विरोध चुना जाना ही बहुत बड़ी जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा, ‘‘ये विश्व क्रिकेट का सबसे बड़ा संगठन है और जिम्मेदारी तो है ही, चाहे आप निर्विरोध चुने गए हों या नहीं। भारत क्रिकेट की महाशक्ति है तो ये चुनौती भी बड़ी होगी।’’

ये पूछने पर कि कार्यकाल सिर्फ नौ महीने का होने का क्या उन्हें अफसोस है, उन्होंने कहा, ‘‘हां, यही नियम है और हमें इसका पालन करना होगा। जब मैं आया तो मुझे पता नहीं था कि मैं अध्यक्ष बनूंगा। पत्रकारों ने मुझसे पूछा तो मैने बृजेश का नाम लिया। मुझे बाद में पता चला कि हालात बदल गए हैं। मैने कभी बीसीसीआई चुनाव नहीं लड़ा तो मुझे नहीं पता कि बोर्ड रूम राजनीति क्या होती है।’’

दोहरा शतक जड़ने वाले संजू सैमसन को जल्द टीम इंडिया में देखना चाहते हैं गौतम गंभीर

बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष जगमोहन डालमिया का जिक्र आने पर भावुक हुए गांगुली ने कहा, ‘‘मैने कभी सोचा नहीं था कि इस पद पर मैं काम करूंगा। वो मेरे लिए पिता जैसे थे। बीसीसीआई के कई बेहतरीन अध्यक्ष हुए हैं, श्रीनिवासन , अनुराग जिन्होंने अच्छा काम किया।’’

बोर्ड अध्यक्ष पद पर काम करना टीम की कप्तानी से अलग होगा ये पूछने पर गांगुली ने कहा, ‘‘भारतीय टीम का कप्तान होने से बढ़ कर कुछ नहीं।’’