South Africa vs Pakistan,1st Test: We would have liked a target that was closer to 200, says Shan Masood
Shan Masood © AFP

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सेंचुरियन में खेले जा रहे पहले टेस्ट मैच में अर्धशतक जड़ने वाले पाकिस्तानी बल्लेबाज शान मसूद का कहना है कि वो विपक्षी टीम को लगभग 200 रनों का लक्ष्य देना पसंद करते। सेंचुरियन टेस्ट की अपनी दूसरी पारी में पाकिस्तान टीम 190 पर ऑलआउट हो गई और दक्षिण अफ्रीका के सामने जीत के लिए 149 रनों का लक्ष्य रखा।

दूसरे दिन का खेल खत्म होने के बाद मसूद ने कहा, “अगर आप पहली पारी को देखें तो हमने 43 रन पर दक्षिण अफ्रीका के 4 विकेट गिरा दिए थे लेकिन ईमानदारी से कहूं तो हम 200 के करीब का लक्ष्य देना पसंद करते।”

सेंचुरियन टेस्ट:दक्षिण अफ्रीका के सामने 149 का लक्ष्य

हालांकि मसूद का कहना है कि पाकिस्तान के पास अभी भी मैच जीतने का मौका है। उन्होंने कहा, “बतौर बल्लेबाज आप इस पिच पर कभी पूरी तरह से मैच में नहीं आ सकते इससे गेंदबाजी यूनिट के पास हमेशा ही मौका रहता है। अगर आप करीब से देखें, पिच पर काफी घास है जिसने दरारों को ढका हुआ है। गेंद इससे घूमती है। पिच पर असमान उछाल है।”

पिच के बारे में मसूद ने आगे कहा, “ट्रैक निश्चित रूप से परिवर्तनशील है और नई गेंद के साथ आप सटीक गेंदबाजी करना चाहते हैं और बल्लेबाज को अधिक से अधिक खिलाना चाहते हैं। दरारें भी काम कर रही हैं। गेंद भी नीचे रह रही है। बात शुरुआती विकेट लेकर बाउंड्री रोकने की है। हम अपने आपको मैच जीतना का पूरा मौका देना चाहते हैं।”

शॉन पोलाक के साथ मैदान पर हमेशा कुछ नया सीखने को मिला: डेल स्टेन

पाक टीम की दूसरी पारी में 65 रन बनाने वाले मसूद ने माना कि बाकी बल्लेबाजों को बड़ी पारियां खेलनी चाहिए थी। उन्होंने कहा, “थोड़ी निराशा थी। आप उम्मीद करते हैं आपका साथी अच्छी बल्लेबाजी करे और सभी इस विकेट पर अच्छा स्कोर बनाने के काबिल थे। अगर आप बड़ी तस्वीर देखें तो मैं निराश हूं। इमाम और मैं एक और घंटे तक बल्लेबाजी कर सकते थे।”

इंग्लैंड, आयरलैंड में रन बनाने से आत्मविश्वास बढ़ा: बाबर आजम

मसूद ने आगे कहा, “अगर नंबर पांच और छह के बल्लेबाज चाय के बाद एक और घंटे तक बल्लेबाजी करते तो 65 का स्कोर और बड़ा हो सकता था। जब आप सेट होते हैं तो आप बड़ा स्कोर करने का सोचते हैं। लेकिन ये अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट है और आखिर में बड़ा स्कोर ही अहम होता है। अगर हम ये मैच जीतते हैं तो मैं 65 रन बनाने पर भी खुश होउंगा। लेकिन बतौर बल्लेबाज आप कितने भी रनों से संतुष्ट नहीं होते हैं।”