South African selectors hit out at AB de Villiers on comeback offer
AB de Villiers (File Photo) @ Getty Images

विश्‍व कप 2019 में साउथ अफ्रीका द्वारा लगातार शुरुआती तीन मैच हारने के बाद टीम के पूर्व दिग्‍गज बल्‍लेबाज एबी डीविलियर्स द्वारा वापसी के लिए टीम मैनेजमेंट से संपर्क किए जाने की खबरें सामने आए। बताया गया कि डीविलियर्स ने टीम के कप्‍तान फाफ डु प्‍लेसिस और कोच ओटिस गिब्‍सन से बात कर विश्‍व कप टीम में जगह दिए जाने की पेशकश की थी। इस मामले में अब अफ्रीकी चयनकर्ता का बयान सामने आया है।

पढ़ें:- ‘यदि मुझे यह पता होता कि गलती कहां हुई है तो मैं हेड कोच होता’

राष्‍ट्रीय चयनकर्ता पैनल के संयोजक लिंडा जोंडी ने डीविलियर्स को लेकर मीडिया में आ रही खबरों पर कड़ी प्रतिक्रिया दी। उन्‍होंने कहा डीविलियर्स को विश्‍व कप टीम में नहीं लेने का निर्णय सिद्धांतों के आधार पर लिया गया है। क्रिकेट साउथ अफ्रीका को इस मामले में एक दम निष्‍पक्ष रहने की जरूरत है।

क्रिकेट साउथ अफ्रीका द्वारा जारी बयान में कहा गया , “निसंदेह डीविलियर्स दुनिया के सबसे बेहतरीन खिलाड़ी हैं, लेकिन इन सब से ऊपर हमें अपने सिद्धांतों और नैतिक आधार पर सचा रहना होगा। हमने साल 2018 में एबी डीविलियर्स से अनुरोध किया था कि वो रिटायरमेंट न लें। उन्‍हें विकल्‍प दिया गया था कि वो श्रीलंका और पाकिस्‍तान के होम टूर के दौरान सिलेक्‍शन के लिए उपलब्‍ध रहें ताकि विश्‍व कप में चुने जाने के योग्‍यता के पैमाने पर वो खरे उतर सकें।”

पढ़ें: रोहित ने लगाई रिकॉर्डों की झड़ी, गांगुली को पछाड़ तीसरे नंबर पर पहुंचे

बताया गया कि डीविलियर्स ने साउथ अफ्रीका के लिए खेलने की जगह पाकिस्‍तान और बांग्‍लादेश की क्रिकेट लीग में खेलने को वरीयता दी। उन्‍होंने इसपर कहा था कि वो अपने रिटायरमेंट के निर्णय से खुश हैं। जब डीविलियर्स ने फाफ डु प्‍लेसिस और ओटिस गिब्‍सन से वापसी के लिए संपर्क किया तो ये हमारे लिए काफी हैरान करने वाली बात थी।

पढ़ें: धोनी ने पहने ‘बलिदान बैज’ वाले दस्‍ताने, सोशल मीडिया पर हुई तारीफ

उन्‍होंने कहा, “अप्रैल 18 को हमने अपनी विश्‍व कप टीम का ऐलान किया। उसी दिन डीविलियर्स ने फाफ और गिब्‍सन से बात की। डीविलियर्स की रिटायरमेंट के बाद टीम में एक बड़ा खालीपन आ गया था, जिसे भरने में हमें साल भर का समय लगा। हमने फ्रेंचाइजी क्रिकेट के स्‍तर पर खिलाड़ी तलाशे। हमारे पास ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्‍होंने डीविलियर्स की जगह भरने के लिए टीम में काफी मेहनत की है। डीविलियर्स को दोबारा मौका नहीं देने का निर्णय सिद्धांतों पर आधारित है। हमें अपनी टीम, फ्रेंचाइजी, सिलेक्‍शन पैनल के प्रति इमानदार रहने की जरूरत है।”