श्रीलंका में हाल ही में चुनाव के बाद नए राष्‍ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे ने कार्यभार संभाला है। नए राष्‍ट्रपति के कार्यभार संभाने के बाद इस बात के कयास लगाए जा रहे हैं कि अपने समय में अपनी ऑफ स्पिन से बल्लेबाजों को नचाने वाले मुथैया मुरलीधरन श्रीलंका में उत्तरी प्रांत के गवर्नर बनाए जा सकते हैं।

पढ़ें:- IND vs WI: टी20-वनडे सीरीज के लिए भारतीय टीम का ऐलान, टी20 में कुलदीप की वापसी

गोटाबाया राजपक्षे ने 2005 से 2015 के बीच रक्षा मंत्री रहने के दौरान तमिल संगठन लिट्टे का खात्मा किया था। लिट्टे से लड़ाई में आम तमिलों को हुई समस्याओं के कारण तमिल अल्पसंख्यकों ने चुनाव में राजपक्षे का साथ नहीं दिया था। राजपक्षे पर युद्ध अपराधों का आरोप लगा था।

पढ़ें:- विराट ने ऑस्‍ट्रेलिया में जिस वजह से डे-नाइट खेलने से किया था इनकार मोमिनुल ने उठाया वही मुद्दा

टेस्ट में 800 विकेट लेने वाले मुरली मूलत: भारतीय तमिल हैं जो श्रीलंका के कैंडी में रहते हैं। उन्होंने गोटाबाया का खुलकर समर्थन किया था। इस वजह से तमिल मुरलीधरन से खुश नहीं बताए जा रहे हैं।