© IANS
© IANS

खेल मंत्रालय ने नाडा को भारतीय क्रिकेटरों पर डोप टेस्ट करने के लिए हरी झंडी दिखा दी है। इसके पहले खेल मंत्रालय ने नेशनल एंटी-डोपिंग एजेंसी (नाडा) से कहा कि वर्ल्ड एंटी-डोपिंग एजेंसी (वाडा) के नियमों का पालन करे। जब ये चीज लागू हो जाएगी तो वाडा भारतीय क्रिकेटरों पर घरेलू और अंतरराष्ट्रीय मैचों के दौरान डोपिंग टेस्ट कर पाएगी।

मंत्रालय ने नाडा को पूरे अधिकार दे दिए हैं कि वह अपने अधिकारियों को बीसीसीआई के द्वारा आयोजित मैचों में भेज सकती है और वे वहां जाकर यूरिन और ब्लड सैंपल ले सकते हैं। पहले टाइम्स ऑफ इंडिया ने रिपोर्ट किया था कि वाडा ने आईसीसी से कहा था कि वह बीसीसीआई से कहे कि वह उसे डोप टेस्ट करने की इजाजत दे।

खेल सचिव राहुल भटनागर ने कहा: “मैंने नाडा डायरेक्टर जनरल नवीन अग्रवाल से कहा है कि वे अपने डीसीओ को भारत में खेले जा रहे क्रिकेट टूर्नामेंटों में भेजें ताकि वे क्रिकेटरों के सैंपल ले सकें। अगर बीसीसीआई नाडा के काम को रोकती है या कोई बाधा उत्पन्न करती है तो हम क्रिकेट बोर्ड के खिलाफ आगे की कार्यवाई करने में हिचकिचाएंगे नहीं।”

बीसीसीआई पर: “हम पहले भारत में खेले जा रहे मैचों में इन-कंपटीशन टेस्ट करेंगे। उसके बाद, हम धीरे-धीरे आगे बढ़ेंगे (और आउट ऑफ कंपटीशन टेस्टिंग करेंगे)। अगर बीसीसीआई ने नाडा के पूर्व में भेजे गए मेल का जवाब नहीं दिया है, तो इसका मतलब ये नहीं है कि मंत्रालय अपना काम करना भूल जाएगा। उन्हें हमें पहले टेस्ट करने से रोकने दो। हम देखेंगे कि और क्या करने की जरूरत है। महत्वपूर्ण बात ये है कि हम टेस्टिंग वाडा के द्वारा निर्धारित किए गए मानकों और नियम, के अंतर्गत ही करेंगे।”

अजूबा! ऑस्ट्रेलिया के गेंदबाज ने 5 गेंदों में झटके 5 विकेट
अजूबा! ऑस्ट्रेलिया के गेंदबाज ने 5 गेंदों में झटके 5 विकेट

वाडा की इजाजत को लेकर: “हमें इस मुद्दे को एक बारगी तार्किक निष्कर्ष की ओर ले जाना होगा। अभी तक हम सैंपल को इकट्ठा करके आगे बढ़ रहे हैं हम वाडा के द्वारा निर्धारित किए गए नियमों की अवहेलना बिल्कुल नहीं करना चाहते।” अगर बीसीसीआई नाडा की आज्ञा का पालन नहीं करती तो खेल मंत्रालय बीसीसीआई को कोर्ट में घसीट सकता है।