विराट कोहली-उपुल थरंगा © Getty Images
विराट कोहली-उपुल थरंगा © Getty Images

श्रीलंका बनाम भारत टी20 मैच के दौरान टॉस को लेकर हुई गड़बड़ी का मामला बढ़ता ही जा रहा है। यूट्यूब पर पोस्ट किए गए एक वीडियो के सामने आने के बाद ये मामला शुरू किया। खबर ये भी आ रही थी श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड इसकी शिकायत आईसीसी से करेगा लेकिन बोर्ड ने खुद ही इस मामले को लेकर सफाई दी है। श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से एक वीडियो पोस्ट कर ये कहा है कि रेफरी एंडी पॉयक्रॉफ्ट ने ‘हेड्स इंडिया’ ही कहा था।

इस वीडियो में श्रीलंका के कप्तान उपुल थरंगा सिक्का उछालते हैं और फिर रेफरी सिक्का देखकर कुछ कहते हैं। बोर्ड ने वीडियो की क्वालिटी बढ़ाने की कोशिश की है लेकिन फिर भी साफ नहीं है कि मैच रेफरी ने आखिर कहा क्या था। हालांकि श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड के इस कदम से एक बात तो साफ है कि वह इस पूरे घटनाक्रम ने ना ही नाराज हैं और ना ही वो कोई शिकायत दर्ज करने वाले हैं।

आपको याद दिला दें कि भारत बनाम श्रीलंका आईसीसी विश्व कप 2011 के फाइनल मैच के दौरान भी टॉस को लेकर कन्फ्यूजन हो गया था लेकिन तब महेंद्र सिंह धोनी ने मामला संभाल लिया था। दरअसल पहले टॉस किए जाने पर भारत जीता था लेकिन कुमार संगाकारा को लगा कि वह जीते हैं। मैच रेफरी संगाकारा की कॉल ठीक से सुन नहीं पाए थे इसलिए वो भी कोई फैसला नहीं कर पाए। ऐसे में धोनी ने मामले को आगे ना बढ़ाते हुए टॉस दोबारा करने के लिए तैयार हो गए। दूसरी बार टॉस में श्रीलंका जीती लेकिन ट्रॉफी कौन जीता ये सब जानते हैं। [ये भी पढ़ें: भारत बनाम न्यूजीलैंड तीसरे वनडे के वेन्यू को लेकर बीसीसीआई परेशान]

क्या है पूरा मामला:

दरअसल 6 सितंबर को कोलंबो के प्रेमदासा स्टेडियम में खेले गए भारत बनाम श्रीलंका टी20 मैच के दौरान टॉस को लेकर गड़बड़ हुई थी। मैच का एक वीडियो सामने आया था जिसमें ऐसा लग रहा था कि मैच रेफरी के टेल्स कहने के बाद भी मुरली कार्तिक ने बोला था कि भारत टॉस जीत गया है जबकि विराट कोहली ने हेड्स चुना था। इस वीडियो के वायरल होने के बाद कई तरह की अफवाहें फैलने लगी। इस घटना को लेकर आईसीसी ने अब तक कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। मामला अहम इसलिए है क्योंकि टॉस का फर्क पूरे मैच पर पड़ता है, ऐसे में अगर कोहली टॉस हारे होते तो मैच के नतीजे में बदलाव देखने को मिल सकता था।