Sri Lankan cricketer Dasun Shanaka can’t forget horror Church bombing
Dasun Shanaka (File Photo) @ Getty Images

इस्टर के मौके श्रीलंका में हुए बम धमाकों में बाल-बाल बचे क्रिकेटर दासुन शनाका ने कहा कि वह अब भी इस सदमे से नहीं उबर पाये हैं और उन्हें बाहर निकलने में भी ‘डर’ लग रहा।

पढ़ें:- IPL में सिर्फ बैंगलुरू की टीम के लिए ही खेलना चाहता हूं : युजवेंद्र चहल

27 साल के इस ऑलराउंडर ने क्रिकइंफो को बताया कि वह एक दिन पहले ही लंबी यात्रा से लौटे थे इसलिए अपने गृहनगर नेगोम्बो स्थित सेंट सेबास्टियन गिरिजाघर में प्रार्थना के लिए नहीं जा पाये थे।

सेंट सेबास्टियन चर्च उन छह होटलों और गिरजाघर में शामिल है जिसे आत्मघाती हमलावारों ने निशाना बनाया। इन घमाकों में 321 लोगों की मौत हो गयी और सैकड़ो घायल हो गये थे। श्रीलंका में गृह युद्ध के खत्म होने के एक दशक बाद यह सबसे भीषण हमला है।

पढ़ें:- “टीम इंडिया को ये विश्व कप जिता सकते हैं ‘कैप्टन कूल’ और किंग कोहली”

शनाका ने कहा, ‘‘आमतौर पर मैं ऐसे मौके पर चर्च जाता हूं लेकिन उस दिन काफी थका हुआ था। उस सुबह मैं अपने घर पर था, मैंने धमाके की आवाज सुनी और लोग कह रहे थे कि बम धमाका हुआ है। मैं तेजी से चर्च की तरफ गया और मैं उस दृश्य को कभी नहीं भूल सकता हूं।’’

हरफनमौला खिलाड़ी ने कहा, ‘‘चर्च पूरी तरह से क्षतिग्रस्त था, सब कुछ बिखरा हुआ था, लोग शवों को बाहर की ओर खिंच रहे थे। अगर आप ने भी उसे देखा होता तो लगता कि अंदर काई नहीं बचा होगा। यहां तक कि धमाके से फैले मलबे से आसपास के लोग भी घायल हो गये।’’