Stephen Fleming: We’re just falling behind at different stages but it’s the first six that’s holding us back
स्टीफेन फ्लेमिंग, महेंद्र सिंह धोनी (IANS)

इंडियन प्रीमियर लीग के 12वें सीजन के पहले क्वालिफायर में चेन्नई सुपर किंग्स को मुंबई इंडियंस के खिलाफ 6 विकेट से हार का सामना करना पड़ा। चेन्नई के घरेलू मैदान एम ए चिदंबरम स्टेडियम में खेल गए इस मैच में चेन्नई टीम पहले बल्लेबाजी करते हुए केवल 131 रन बना पाई। चेपॉक की धीमी पिच पर भी 132 के स्कोर को बचाना मुश्किल था। सूर्यकुमार यादव की अर्धशतकीय पारी के दम पर मुंबई ने 18.3 ओवर में मैच खत्म कर दिया।

चेन्नई टीम अगर शुरुआती ओवरों में ज्यादा रन बना पाती तो शायद वो मुंबई के खिलाफ और मजबूत स्कोर रख पाते। ऐसा मानना है सीएसके के कोच स्टीफेन फ्लेमिंग का। मैच के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान फ्लेमिंग ने कहा, “हां (पारी की गति बढ़ाने में) मुश्किल हो रही है। परेशानी ये है कि हम पावरप्ले में पिछड़ रहे हैं। हम 6 से 20 ओवर तक सब कुछ सही कर रहे हैं, मुझे लगता है कि आज का रन रेट 7 था और फिर आखिरी के दस ओवर में 10 था। हम वहां पर सही रन हासिल कर पा रहे हैं लेकिन पावरप्ले में पिछड़ रहे हैं।”

फ्लेमिंग का मानना है कि शुरुआती विकेट जल्दी खो देने के बाद मध्य क्रम बल्लेबाजों को बीच के ओवरों में रन रेट बढ़ाने में मुश्किल होती है क्योंकि उनका ध्यान विकेट बचाने और पारी को आखिर तक ले जाने पर होता है। कोच ने कहा, “आप इस तरह के हालातों में जरूरत से ज्यादा अटैक करने का खतरा नहीं उठा सकते, आप 100 रन पर ऑलआउट हो सकते हैं। इसलिए आपको पहले सुरक्षा निश्चित करनी होती है। जब तक आप वो हासिल कर पाते हैं 14 ओवर हो जाते हैं, वहां से हम 10 का रन रेट हासिल करने कामयाब रहे थे, जो कि हमें एक प्रतिद्वंदी स्कोर तक ले गया।”

ये भी पढ़ें: सूर्यकुमार का शानदार अर्धशतक, चेन्नई को हरा फाइनल में पहुंची मुंबई

पूर्व कीवी क्रिकेटर ने आगे कहा, “लेकिन हमें पहले 6 ओवरों में और ज्यादा संतुलन चाहिए होगा, 40 के करीब रन सही होंगे। जो कि आपको 150-160 के स्कोर तक ले जाएंगे जो कि मैच विनिंग स्कोर हो सकता है। हम अलग अलग स्टेज पर असफल हो रहे हैं लेकिन पहले 6 ओवर हमें पीछे धकेल रहे हैं, जब हम विकेट गंवा देते हैं। इस मामले में अगर हम बेड़ियों को तोड़ दें और अगले मैच में जबरदस्त प्रयास करें और देखें कि हम अपने आपको फॉर्म और आत्मविश्वास दिला पाते हैं।”