स्टुअर्ट ब्रॉड © Getty Images
स्टुअर्ट ब्रॉड © Getty Images

अपना पहला डे-नाइट मैच खेलने जा रही इंग्लैंड टीम के तेज गेंदबाज स्टुअर्ट ब्रॉड का पिंक बॉल क्रिकेट के बारे में कुछ और ही सोचना है। दरअसल ब्रॉड का मानना है कि इस टेस्ट मैच से इंग्लैंड टीम अनजान राह पर कदम रख रही है। ब्रॉड ने कहा, “इस हफ्ते में हम एक अनजान राह पर कदम रखने जा रहे हैं। मुझे नहीं पता कि इससे मुझे क्या अपेक्षाएं रखनी चाहिए।” बता दें कि वेस्टइंडीज और इंग्लैंड के बीच पिंक गेंद से खेला जाने वाला ये मैच 17 अगस्त को एजबेस्टन में शुरू होगा। जिसके लिए इंग्लैंड टीम ने 14 अगस्त को तीन घंटे फ्लडलाइट्स के नीचे अभ्यास किया था।

ब्रॉड ने इस बारे में पत्रकारों से बातचीत में कहा, “मैने कई लोगों से बात करने की कोशिश की है लेकिन वास्तव में ऑस्ट्रेलियन काफी अलग हैं क्योंकि उन्होंने डे-नाइट मैच अलग गेंद के साथ खेला है। काउंटी क्रिकेट के खिलाड़ियों ने कहा कि इस गेंद में उतनी शाइन नहीं होती, यह बहुत जल्दी बहुत ज्यादा सॉफ्ट हो जाती है। इस गेंद से स्पिनर्स को उछाल तो मिलता है लेकिन घुमाव नहीं मिल पाता।” ब्रॉड ने इस ओर भी इशारा किया कि वेस्टइंडीज पहले भी डे-नाइट मैच खेल चुकी है इसलिए वह उनसे ज्यादा अच्छी तरह से तैयार हैं। दरअसल वेस्टइंडीज टीम ने पाकिस्तान के खिलाफ दुबई में एक डे-नाइट मैच खेला था। उस मैच से पहले विंडीज टीम ने तीन दिन डर्बीशायर के खिलाफ डे-नाइट अभ्यास मैच भी खेला था। [ये भी पढ़ें: विराट कोहली ने लंका में फहराया तिरंगा]

डे-नाइट मैच के दौरान सबसे मुश्किल समय शाम का होता है जब सूरज की रोशनी धीरे-धीरे कम होती है और फ्लडलाइट्स ऑन की जाती हैं। ब्रॉड भी इससे अच्छी तरह वाकिफ हैं। इस बारे में उन्होंने कहा, “यह मजेदार होगा और मेरा मानना है कि हर बल्लेबाज यही दुआ कर रहा होगा कि उसे शाम के समय बल्लेबाजी करने ना आना पड़े। हर बल्लेबाज क्रीज पर आते समय साधारण परिस्थितियां चाहता है। बतौर टीम हम ये कोशिश करें उस समय खेलने के लिए हमारे पास बल्लेबाज हों क्योंकि तीन-चार विकेट जल्दी गिर सकते हैं और इससे मैच हाथ से निकल सकता है। ऐसे समय में जो भी बल्लेबाज 30 या 70 रन बनाकर नाबाद होगा वो अगर आउट हो जाता है तो उसके पास बताने के लिए काफी कुछ होगा।”