वेस्टइंडीज की टीम © AFP
वेस्टइंडीज की टीम © AFP

वेस्टइंडीज और अफगानिस्तान के बीच तीसरा और निर्णायक मैच बारिश के कारण धुल जाने से तीन मैचों की सीरीज 1-1 से बराबरी पर खत्म हो गई, लेकिन इससे कैरेबियाई टीम के वर्ल्ड कप में सीधी एंट्री की उम्मीदों को तगड़ा झटका लगा है। मेजबान वेस्टइंडीज और अफगानिस्तान के बीच तीसरा और निर्णायक वनडे मैच रातभर हुई भारी बारिश के कारण बिना एक गेंद खेले रद्द करना पड़ा जिससे सीरीज भी बराबरी पर ड्रॉ समाप्त हो गई।

मैच में हालांकि निर्धारित समय के दो घंटे बाद टॉस कराया गया जिसे अफगान कप्तान असगर स्तानिकजई ने जीता और पहले बल्लेबाजी का निर्णय किया, लेकिन उसके तुरंत बाद बारिश शुरू हो गई और फिर से ग्राउंड को कवर कर दिया गया। वहीं इससे पहले विंडीज के कोच स्टुअर्ट लॉ ने कहा कि कैरेबियाई टीम वनडे क्रिकेट में काफी पिछड़ चुकी है और उन्हें अब रैंकिंग में अपनी स्थिति सुधारने के लिए काफी मेहनत करनी होगी ताकि विश्वकप 2019 के लिए वह सीधे क्वालीफाई कर सकें।

दरअसल 30 सितंबर तक आईसीसी रैंकिंग में टॉप 8 टीमों को इंग्लैंड में होने वाले विश्वकप में सीधे प्रवेश मिल जाएगा। फिलहाल चैंपियंस ट्रॉफी के सेमीफाइनल में पहुंच गई बांगलादेश और पाकिस्तान में से जो भी फाइनल में पहुंचेगा उसके और नौवें नंबर की विंडीज टीम के बीच अंकों के लिहाज से काफी अंतर हो जाएगा। जिन भी टीमों को सीधे प्रवेश नहीं मिलेगा उन्हें फिर आखिरी दो स्थानों के लिए अप्रैल 2018 से शुरू हो रहे क्वालिफाइंग टूर्नामेंट से गुजरना होगा जिसमें एसोसिएट समेत 10 टीमें हिस्सा लेंगी। [ये भी पढ़े: चैंपियंस ट्रॉफी: दूसरे सेमीफाइनल में भारत जीतेगा फाइनल का टिकट या बांग्लादेश करेगा उलटफेर]

वेस्टइंडीज टीम ने अफगानिस्तान के साथ सीरीज 79 अंकों के साथ शुरू की थी और अगर वो फाइनल मैच के साथ सीरीज जीत भी जाती तब भी उसे एक अंक का नुकसान हो सकता था, कैरेबियाई टीम को अब भारत के खिलाफ अगली वनडे सीरीज और इंग्लैंड के खिलाफ सीरीज में कुछ मैच जीतने होंगे तभी उसकी स्थिति में कुछ सुधार संभव है।