भारतीय टीम के वर्ल्‍ड कप विजेता कप्‍तान कपिल देव (Kapil Dev) का मानना है कि अगर सुनील गावस्‍कर (Sunil Gavaskar) और क्रिस श्रीकांत के समय में टी20 क्रिकेट होता तो वो निश्चित तौर पर इस फॉर्मेट में भी सफल होते.

स्‍पोट्स स्‍टार से बातचीत के दौरान उन्‍होंने कहा, ” मैं अक्‍सर यह सोचता हूं कि सुनील गावस्‍कर के समय में यह फॉर्मेट होता तो उनकी इसमें काफी ज्‍यादा डिमांड होती. साथ ही अगर श्रीकांत के समय में टी20 होता तो वो क्‍या करते. उन्‍होंने इमरान खान और वसीम अकरम की गेंदों पर अच्‍छा प्रहार किया है.”

कपिल देव ने आगे बताया कि यशपाल शर्मा निचले हाथ से खेलते हुए मिडविकेट के उपर से चौका लगाते थे. वो कवर से लेकर मिडविकेट के उपर से आसानी से शॉट लगा लेते थे.

“बिशन सिंह बेदी और श्रीनिवास वेंकटराघवन जैसे गेंदबाजों के सामने बल्‍लेबाज भी सहम जाते. ईरापल्‍ली प्रसन्ना भी हवा में गेंद से कला दिखाने के कारण बल्‍लेबाजों की छुट्टी कर देते.”

कपिल देव ने बताया, “बिशन सिंह बेदी और सुनील गावस्‍कर ने मुझे जीवन के दो अहम सबक दिए. बेहदी ने सिखाया कि दिल बड़ा रखा और गावस्‍कर ने बताया कि हमेशा प्‍लान बनाकर रखो.”

रोहित शर्मा मौजूदा समय में टी20 फॉर्मेट के सबसे ज्‍यादा पसंद किए जाने वाले भारतीय बल्‍लेबाज हैं. भारत ने 2007 में पहला टी20 वर्ल्‍ड कप अपने नाम किया था.