दिग्गज भारतीय बल्लेबाज सुनील गावस्कर (Sunil Gavaskar) पूर्व इंग्लिश कप्तान नासिर हुसैन (Nasir Hussain) के हालिया बयान से बेहद नाराज हैं। हुसैन ने कहा था कि सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) के कप्तान बनने के पहले भारतीय टीम मजबूत नहीं थी, जो बात गावस्कर के गले नहीं उतरी।

पूर्व भारतीय कप्तान ने मिड-डे के अपने कॉलम में लिखा, “नासिर ने ये कहा कि पहले की टीम विपक्षी खिलाड़ियों को मुस्कुराकर गुड मॉर्निंग कहती थी। ये केवल धारणा कि अगर आप अच्छे हैं तो आप कमजोर हैं। और जब तक आप विपक्षी टीम के सिर चढ़ जाते हैं तो आप मजबूत हैं।”

उन्होंने आगे लिखा, “क्या वो कहना चाहते हैं कि सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड़, वीरेंदर सहवाग, वीवीएस लक्ष्मण, अनिल कुंबले, हरभजन सिंह कमजोर हैं? केवल इसलिए क्योंकि वो बिना गाली गलौज किए, चीखे-चिल्लाए अपना काम करते हैं, वो कमजोर हैं?”

गावस्कर ने हुसैन को लताड़ा और कहा कि क्या वो साल 2000 में गांगुली के कप्तान बनने से पहले की टीम इंडिया को जानते हैं। उन्होंने कहा, “वो 70 और 80 के दशक टीम, जिसने घर के साथ विदेशों में जीत हासिल की उसकी ताकत के बारे में जानता ही क्या है जो ये बयान दे रहा है? हां गांगुली एक शीर्ष कप्तान था, भारतीय क्रिकेट के मुश्किल समय में उसने कप्तानी संभाली लेकिन ये कहना है कि उससे पहले ही टीम ताकतवर नहीं थी बकवास है।”

पूर्व क्रिकेटर ने आगे कहा, “अब समय आ गया है हमारे क्रिकेट के इतिहास पर बात करने के मामले में टीवी वाले केवल सिर हिलाने वाले लोगों का इस्तेमाल करना बंद कर दें। और उन लोगों का इस्तेमाल करें जो मुश्किल समय में खड़े हुए और इस तरह की बुलिंग का विरोध करें जो ये कहती है हम काफी अच्छे हैं इसलिए हम मजबूत नहीं हो सकते।”