Sunil Gavaskar: Some players need to be removed from test cricket
KL Rahul with Shikhar Dhawan (File Photo) © AFP

साउथम्‍पटन में 60 रनों से भारत की हार के साथ जो रूट की टीम ने पांच मैचों की सीरीज में तीन जीत दर्ज कर 3-1 से सीरीज में अजेय बढ़त बना ली है। भारत को जीत के लिए 245 रनों का लक्ष्‍य मिला था, लेकिन भारतीय धुरंधर बल्‍लेबाज 184 रन पर ही ऑलआउट हो गए।

भारत की इस हार से पूर्व भारतीय बल्‍लेबाज सुनील गावस्‍कर काफी नाराज हैं। उन्‍होंने आजतक से बातचीत के दौरान कहा अब वक्‍त आ गया है कि कुछ खिलाड़ियों को न सिर्फ प्‍लेइंग इलेवन बल्कि टीम के स्‍क्‍वार्ड से ही बाहर कर दिया जाना चाहिए।

विजय और धवन ने किया निराश

सुनील गावस्‍कर ने कहा, “इंग्‍लैंड में भारत की हार के लिए शिखर धवन, केएल राहुल, मुरली विजय, हार्दिक पांड्या और दिनेश कार्तिक जैसे खिलाड़ी जिम्‍मेदार हैं। विजय ने शुरुआती दो मैचों में सिर्फ 32 रन बनाए। उनसे इंग्‍लैंड में काफी उम्‍मीदें थी, लेकिन वो पूरी तरह से फेल हुए। इसी तरह शिखर धवन इस सीरीज में एक बार भी 50 रन का आकड़ा नहीं छू पाए। जब उन्‍होंने टेस्‍ट क्रिकेट में कदम रखा था तो वो अपनी तकनीक और जोश के लिए काफी चर्चा में आए थे, लेकिन इस दौरे पर वो कुछ खास असर नहीं छोड़ पाए।”

पांड्या की जगह जडेजा बेहतर विकल्‍प होते

सुनील गावस्‍कर ने कहा, “केएल राहुल को आईपीएल में शानदार प्रदर्शन के आधार में टेस्‍ट में मौका मिला था, लेकिन उन्‍होंने सभी को निराश किया है। कप्‍तान कोहली ने राहुल के बुरे प्रदर्शन के बाद भी उनका साथ दिया है। खेल के छोटे फॉर्मेट में हार्दिक पांड्या ने अच्‍छा प्रदर्शन कर टेस्‍ट में जगह बनाई। उससे उम्‍मीद भी काफी लगाई गई, लेकिन टेस्‍ट क्रिकेट में वो एक ऑलराउंडर की जगह नहीं भर पाए। कई बार ख्‍याल आया कि पांड्या की जगह रवींद्र जडेजा बेहतर विकल्‍प होते।”

चोटिल साहा की जगह नहीं ले पाए कार्तिक

इसी तरह दिनेश कार्तिक पर सुनील गावस्‍कर जमकर बरसे। उन्‍होंने कहा, ” चोटिल रिद्धीमान साहा की जगह कार्तिक को मौका दिया गया, लेकिन तजुर्बेकार खिलाड़ी होने के बावजूद भी वो कोई छाप नहीं छोड़ पाए। उनकी जगह अाए रिषभ पंत बतौर विकेटकीपर अच्‍छे रहे, लेकिन बल्‍लेबाजी में वो अपना जादू चला पाने में पूरी तरह से फेल हुए।”