भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग (Virender Sehwag)  को लगता है कि सनराइजर्स हैदराबाद (SRH) को नीलामी से पहले सलामी बल्लेबाज डेविड वार्नर (David Warner) को रिलीज करने के बजाय उसका समर्थन करना चाहिए था.

ऑस्ट्रेलियाई सलामी बल्लेबाज वार्नर 2015 से 2021 सीज़न तक हैदराबाद के कप्तान थे. इस बीच उन्होंने खुद को आईपीएल में सबसे अधिक रन बनाने वालों में से एक के रूप में स्थापित किया और 2016 में सनराइजर्स को पहला खिताब जिताया था.

हालांकि, 2021 के आईपीएल सीजन के बाद टीम मैनेजमेंट साथ मतभेद के बाद ऑस्ट्रेलियाई सलामी बल्लेबाज को कप्तान के पद से बर्खास्त कर दिया गया था. आईपीएल 2021 में वॉर्नर ने 24.37 की औसत और 107.73 के स्ट्राइक रेट से सिर्फ 195 रन बनाए

15वें सीजन से पहले वार्नर को दिल्ली कैपिटल्स ने खरीदा. आईपीएल 2022 में वार्नर ने 12 मैचों में 48 की औसत और 150.52 की स्ट्राइक रेट से 432 रन बनाए हैं. इस सीजन वार्नर को 500 का आंकड़ा पार करने का मौका नहीं मिलेगा चूंकि दिल्ली कैपिटल्स शनिवार को मुंबई के खिलाफ मैच में हारकर टूर्नामेंट से बाहर हो गई है.

भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज सहवाग का मानना है कि वार्नर को रिलीज करना हैदराबाद की ‘सबसे बड़ी गलती’ थी. उनका मानना है कि टीम मैनेजमेंट को उन्हें जाने देने के बजाय अपने कप्तान के साथ सामंजस्य बिठाना चाहिए था.

सहवाग, जिन्होंने कैपिटल्स (पूर्व में डेयरडेविल्स) में अपने समय के दौरान वार्नर के साथ ड्रेसिंग रूम साझा किया था, ने स्थिति के अनुसार खेलने के लिए ऑस्ट्रेलियाई की क्षमता की तारीफ की.

सहवाग ने क्रिकबज को बताया, “डेविड वॉर्नर को रिलीज करना सनराइजर्स हैदराबाद की सबसे बड़ी गलती रही है. चाहे कुछ भी हो जाए, उन्हें उसे जाने नहीं देना चाहिए था. अगर कोई भारतीय कप्तान ऐसा बयान देता है तो चयनकर्ता उसे ना तो हटाते और ना ही बर्खास्त करते हैं. SRH मैनेजमेंट को वार्नर का समर्थन करना चाहिए था, जो उन्होंने नहीं किया. अगर वे होते, तो वो अभी भी फ्रैंचाइज़ी के साथ होते.”

पूर्व क्रिकेटर ने आगे कहा, “किसी का भी एक सीजन खराब हो सकता है. विराट कोहली ने हाल ही में एक अर्धशतक बनाया है, नहीं तो उनका सीजन वाकई खराब रहा है. इसका मतलब ये नहीं है कि बैंगलोर को उन्हें रिलीज कर देना चाहिए.”

उन्होंने कहा, “वॉर्नर ने अपने खेल में बदलाव किया है. वो परिस्थिति के अनुसार खेलता है. वो आक्रामक क्रिकेट के साथ शुरुआत करता था लेकिन अब वो खेल को भी नियंत्रित कर रहा है और आखिर तक टिके रहने की कोशिश करता है, जो एक बहुत अच्छे खिलाड़ी की निशानी है.”